Home /News /uttarakhand /

परमार्थ आश्रम में संतों की बैठक, स्वामी चिन्मयानंद मामले में की निष्पक्ष जांच की मांग

परमार्थ आश्रम में संतों की बैठक, स्वामी चिन्मयानंद मामले में की निष्पक्ष जांच की मांग

साधु-संतों ने मामले को स्वामी चिन्मयानंद के खिलाफ बड़ा राजनीतिक षड्यंत्र बताया है.

साधु-संतों ने मामले को स्वामी चिन्मयानंद के खिलाफ बड़ा राजनीतिक षड्यंत्र बताया है.

हरिद्वार स्थित परमार्थ आश्रम में साधु-संतों ने इकट्ठा होकर स्वामी चिन्मयानंद के मामले में निष्पक्ष जांच की मांग की है. साधु-संतों ने इसे बड़ा राजनीतिक षड्यंत्र बताया है.

    हरिद्वार. उत्तराखंड (Uttarakhand) के हरिद्वार (Haridwar) जिले में स्थित परमार्थ आश्रम के परमाध्यक्ष स्वामी चिन्मयानंद (Swami Chinmayananda) सलाखों के पीछे हैं. शाहजहांपुर (यूपी) के लॉ कॉलेज की छात्रा द्वारा दुष्कर्म का आरोप लगाए जाने के बाद से स्वामी चिन्मयानंद जेल में बंद हैं. वहीं पुलिस ने निष्पक्ष जांच करते हुए आरोप लगाने वाली छात्रा के खिलाफ भी कार्रवाई की है. इस प्रकरण में एक वीडियो भी वायरल हो रहा है, जिसकी जांच पुलिस कर रही है.

    साधु-संतों ने बताया राजनीतिक षड्यंत्र

    बता दें कि मामले में हरिद्वार स्थित परमार्थ आश्रम में साधु-संतों ने इकट्ठा होकर मामले की निष्पक्ष जांच की मांग की है. साधु-संतों ने मामले को स्वामी चिन्मयानंद के खिलाफ बड़ा राजनीतिक षड्यंत्र बताया है.

    'शाहजहांपुर लॉ कॉलेज को यूनिवर्सिटी बनाना चाहते थे स्वामी चिन्मयानंद'

    स्वामी चिन्मयानंद के शिष्य स्वामी सर्वेश्वरानंद (Swami Sarveshwarananda) ने कहा कि अभी तक सिर्फ एक पक्ष की ही बात सामने आई है. स्वामी जी के पक्ष की बात भी लोगों के सामने जानी चाहिए. स्वामी चिन्मयानंद के खिलाफ कई कारणों से षड्यंत्र रचा गया है. उन्होंने कहा कि स्वामी चिन्मयानंद यूपी के शाहजहांपुर लॉ कॉलेज को यूनिवर्सिटी बनाने का प्रयास कर रहे थे. इसके लिए उनकी बात सीएम योगी आदित्यनाथ से भी चल रही थी, लेकिन इसमें भी कई लोग अड़ंगा लगाना चाहते थे.

    स्वामी सर्वेश्वरानंद-sarveshwarananda
    स्वामी चिन्मयानंद के शिष्य स्वामी सर्वेश्वरानंद ने कहा- 'शाहजहांपुर लॉ कॉलेज को यूनिवर्सिटी बनाना चाहते थे स्वामी चिन्मयानंद'


    'बीजेपी और राम मंदिर से जुड़े नाम को बदनाम करने की साजिश'

    उन्होंने कहा कि स्वामी चिन्मयानंद देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) से जुड़े हुए हैं. इसके अलावा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath), राम मंदिर (Ram Mandir) और विश्व हिंदू परिषद (VHP) से भी जुड़े हुए हैं.

    स्वामी सर्वेश्वरानंद का आरोप है कि संत बीजेपी (BJP) और राम मंदिर से जुड़े नामों को बदनाम कर दूसरी पार्टियां फायदा लेना चाहती हैं, इसलिए यह एक राजनीतिक षड्यंत्र है. कांग्रेस पार्टी ने भी इस मुद्दे को तुरंत भुनाने का प्रयास किया, लेकिन जैसे ही सच्चाई सामने आएगी सब गायब होना शुरू हो जाएंगे.

    ये भी पढ़ें:- लड़की ने सरेआम की मनचले की चप्पल से पिटाई, भीड़ ने भी जमकर किया हाथ साफ

    उत्तराखंड पंचायत चुनाव 2019: पहले चरण का मतदान जारी

    Tags: Crime report, Haridwar, Rape, Rape convict, Swami chinmayanand, Uttarakhand news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर