Assembly Banner 2021

हरिद्वार में VHP की बैठक: संतों ने कहा- मस्जिदों की खुदाई जरूरी, लव जिहाद पर भी चर्चा

सांकेतिक फोटो.

सांकेतिक फोटो.

उत्तराखंड (Uttarakhand) के हरिद्वार (Haridwar) में विश्व हिंदू परिषद (VHP) की एक अहम बैठक शुक्रवार को हो रही है. इस बैठक से पहले संतों ने कहा कि लव जिहाद, धर्मांतरण पर चर्चा बेहद जरूरी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 9, 2021, 12:33 PM IST
  • Share this:
हरिद्वार. उत्तराखंड (Uttarakhand) के हरिद्वार (Haridwar) में विश्व हिंदू परिषद (VHP) की एक अहम बैठक शुक्रवार को हो रही है. इस बैठक से पहले संतों ने कहा कि लव जिहाद, धर्मांतरण पर चर्चा बेहद जरूरी है. बैठक में पहुंचे स्वामी चिन्मयानंद बोले कि मंदिरों के ऊपर बने मस्जिदों की खुदाई करवानी भी जरूरी है. विश्व हिंदू परिषद के मार्गदर्शक मंडल की बैठक हो रही है. इस बैठक में ढाई सौ से ज्यादा साधु महात्मा और विश्व हिंदू परिषद से जुड़े कार्यकर्ता हिस्सा ले रहे हैं. बैठक में लव जिहाद, धर्मांतरण और सरकार द्वारा हिंदू मंदिरों पर कब्जे की कोशिश जैसे मुद्दों पर चर्चा जारी है.

बैठक में हिस्सा लेने के लिए पहुंचे साधु संतों के मुताबिक जिस तरह से देश में धर्मांतरण और लव जिहाद के मामले बढ़ रहे हैं उन पर चर्चा जरूरी है. पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद ने उत्तर प्रदेश की अदालत के फैसले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि ऐसी मस्जिदों की खुदाई जरूरी है, जो ऐतिहासिक रूप से मंदिर थे और इन्हें तोड़कर मस्जिद बना दिया गया. ऐसे में इन मस्जिदों की खुदाई से ही पता चलेगा कि मंदिरों को नष्ट करने के लिए कैसी साजिश रची गई. बता दें कि बैठक को लेकर देशभर में चर्चाओं का दौर है. हरिद्वारा कुंभ मेले में अमृत स्नान की तारीख से पहले इस बैठक को काफी अहम बताया जा रहा है. मिली जानकारी के मुताबिक बैठक में चर्चाओं के बाद एक रिपोर्ट सरकार को सौंपकर वीएचपी द्वारा कुछ मांगे की जा सकती हैं. जिसका पूरा लेखा जोखा तैयार किया जाएगा.

मस्जिद के संबंध में कही ये बात
पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद भी बैठक में पहुंचे हुए हैं. बैठक में पहुंचे स्वामी चिन्मयानंद ने न्यूज 18 से बात करते हुए काशी की ज्ञानव्यापी मस्जिद पर आए अदालत के फैसले प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा कि ऐसी मस्जिदों की खुदाई जरूरी है जो ऐतिहासिक रूप से मंदिर थे और इन्हें तोड़कर मस्जिद बना दिया गया, जो मुगल आक्रमणकारियों की देन है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज