राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने IIT रुड़की के छात्र-छात्राओं को डिग्रियां बांटीं, मानवता की भलाई के लिए काम करने की अपील
Haridwar News in Hindi

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने IIT रुड़की के छात्र-छात्राओं को डिग्रियां बांटीं, मानवता की भलाई के लिए काम करने की अपील
कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि आईआईटी रुड़की जैसे संस्थान शिक्षा के केंद्र मात्र नहीं हैं, ये नवाचार और रचनात्मक विचारों के हब भी हैं.

राष्ट्रपति ने खुशी जताई कि आईआईटी रुड़की के छात्रों ने सामुदायिक कार्यों में सक्रिय भागीदारी निभाई है.

  • Share this:
शुक्रवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ramnath Kovind) ने आईआईटी रुड़की (IIT Rooraki) के वार्षिक दीक्षांत समारोह (Convocation) में छात्र-छात्राओं को उपाधियां वितरित कीं. कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि आईआईटी रुड़की जैसे संस्थान शिक्षा के केंद्र मात्र नहीं हैं, ये नवाचार और रचनात्मक विचारों के हब भी हैं. शोध (Research), नवाचार (Innovation) और रचनात्मक (Creativity) विचारों से ही राष्ट्रीय लक्ष्यों को प्राप्त करने के साथ ही मानवता की भलाई की जा सकती है. हमें नवाचार और रचनात्मकता को बढ़ावा देना चाहिए. प्रसन्नता है कि आईआईटी रुड़की ऐसा कर रही है. यहां स्थित टीआईडीईएस बिजनेस इन्क्यूबेटर (TIDES Business Incubator), नई तकनीक पर आधारित स्टार्ट अप (Start Up) और नई कम्पनियों को सहायता प्रदान कर रहा है.

सामुदायिक कार्यों में सक्रिय भागीदारी 

राष्ट्रपति ने कहा कि जून, 2018 में राज्यपाल सम्मेलन में उन्होंने सुझाव दिया था कि विश्वविद्यालय ‘यूनिवर्सिटी सोशल रेस्पोंसिबिलिटी’ को अपनाएं. खुशी है कि आईआईटी रुड़की के छात्रों ने सामुदायिक कार्यों में सक्रिय भागीदारी निभाई है.



राष्ट्रपति ने बताया कि IIT छात्रों ने उत्तराखण्ड में पांच गांव चिन्हित किए हैं और इन गांवों की जल प्रबंधन, स्वच्छता, दक्षता विकास आदि समस्याओं का समाधान करने के लिए ग्रामीणों के साथ काम कर रहे हैं. स्वच्छता ही सेवा के तहत हरिद्वार व रुड़की में गंगा घाट पर गंगा स्वच्छता अभियान में प्रतिभागिता की है. इस तरह की पहल कर आईआईटी रुड़की के छात्रों ने ‘यूनिवर्सिटी सोशल रेस्पोंसिबिलिटी’ को कार्यरूप दिया है.
IIT Roorakee convocation, राष्ट्रपति ने कहा कि स्वच्छता ही सेवा के तहत हरिद्वार व रुड़की में गंगा घाट पर गंगा स्वच्छता अभियान में प्रतिभागिता की पहल कर आईआईटी रुड़की के छात्रों ने ‘यूनिवर्सिटी सोशल रेस्पोंसिबिलिटी’ को कार्यरूप दिया है.
राष्ट्रपति ने कहा कि स्वच्छता ही सेवा के तहत हरिद्वार व रुड़की में गंगा घाट पर गंगा स्वच्छता अभियान में प्रतिभागिता की पहल कर आईआईटी रुड़की के छात्रों ने ‘यूनिवर्सिटी सोशल रेस्पोंसिबिलिटी’ को कार्यरूप दिया है.


IIT रुड़की के नाम कई उपलब्धियां

इस मौके पर मुख्यमंत्री ने आईआईटी रुड़की के उपाधिधारकों को बधाई देते हुए कहा कि मानव व्यवहार से तकनीक को सहजता से जोड़ना, शिक्षित व्यक्ति का कर्तव्य है. प्राप्त शिक्षा का उपयोग, देश के कल्याण में किस तरह से किया जा सकता है, इस पर विचार करें. उन्होंने कहा कि कठिन प्रतिस्पर्धा के दौर में छात्रों का जीवन काफी तनावपूर्ण हो रहा है. ऐसे में प्रधानमंत्री के योग के संदेश को अपनाने की ज़रूरत है. इससे जीवन तनावमुक्त होता है और नई ऊर्जा का संचार होता है. तभी फिट इंडिया का स्वप्न साकार होगा.

मुख्यमंत्री ने कहा कि आईआईटी रुड़की में इसरो द्वारा अंतरिक्ष विज्ञान का प्रकोष्ठ स्थापित किया जा रहा है. इससे अंतरिक्ष के क्षेत्र में शोध को बढ़ावा मिलेगा. संस्थान ने कई विशेष उपलब्धियां भी हासिल की हैं. भूकम्प की पूर्व चेतावनी देने की तकनीक विकसित करने में अच्छा काम किया है. यह उत्तराखण्ड जैसे संवेदनशील राज्यों के लिए बहुत उपयोगी रहेगा.

IIT Roorakee convocation, IIT रुड़की के दीक्षांत समारोह में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक, राज्यपाल बेबी रानी मौर्य, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत भी शामिल हुए.
IIT रुड़की के दीक्षांत समारोह में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक, राज्यपाल बेबी रानी मौर्य, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत भी शामिल हुए.


प्रतिभा प्रदर्शन का सही समय 

केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डॉक्टर रमेश पोखरियाल निशंक ने उपाधिधारक छात्र-छात्राओं को बधाई देते हुए कहा कि युवावस्था की श्रेष्ठतम ऊर्जा तथा श्रेष्ठतम संस्थान की शिक्षा आपके पास है. हर कठिन परिस्थिति को सुगम बनाने की ताकत आपके पास है. इस प्रतिभा का बेहतर प्रदर्शन करने का यही सही समय है.

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान के निदेशक प्रोफ़ेसर अजित कुमार चतुर्वेदी ने संस्थान के क्रिया-कलापों की जानकारी प्रदान करते हुए बताया कि आज के दीक्षांत समारोह में 2029 छात्रों, जिनमें से 309 पीएचडी छात्र हैं, ने अपनी उपाधि ग्रहण की.

इस अवसर पर देश की प्रथम महिला सविता कोविन्द, राज्यपाल बेबी रानी मौर्य, मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह, पुलिस महानिदेशक अनिल रतूड़ी, आयुक्त गढ़वाल रमन रविनाथ, आईजी गढ़वाल राजीव रौतेला भी उपस्थित थे.

ये भी देखें: 

IIT रुड़की में छात्रा से छेड़छाड़ मामले में दो प्रोफेसरों पर केस दर्ज

आईआईटी रुड़की से एक शोध छात्रा लापता 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज