ऋषिकेश: भारी बारिश से गंगा नदी में उफान, खतरे के निशान से बस 10 सेमी नीचे

उत्तराखंड (Uttarakhand) में भारी बारिश (heavy rainfall) की वजह से गंगा नदी (River Ganga) में जलस्तर खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है.

News18 Uttarakhand
Updated: August 14, 2019, 12:01 PM IST
ऋषिकेश: भारी बारिश से गंगा नदी में उफान, खतरे के निशान से बस 10 सेमी नीचे
ऋषिकेश जिले में नदी खतरे के निशान से महज 10 सेमी नीचे रह गई है. इसे लेकर प्रशासन चौकन्ना हो गया है.
News18 Uttarakhand
Updated: August 14, 2019, 12:01 PM IST
उत्तराखंड (Uttarakhand) में भारी बारिश (heavy rainfall) की वजह से गंगा नदी (River Ganga) में जलस्तर खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है. ऋषिकेश जिले में नदी खतरे के निशान से महज 10 सेमी नीचे रह गई है. इसे लेकर प्रशासन चौकन्ना हो गया है.

वहीं राज्य के चमोली के देवाल विकासखंड में तेज बारिश और बादल फटने से गांव में भारी नुकसान हुआ है.  बादल फटने से पुलिया छतिग्रस्त हो गई, जिससे कई गांवों का आपस में संपर्क टूट गया है. तेज बारिश और बादल फटने के चलते फल्दिया गांव में दो महिलाएं (मां-बेटी) लापता हो गईं हैं. सडीएम थराली फल्दिया गांव पहुंचे, उनके साथ अन्य अधिकारी भी मौजूद थे. उन्होंने बादल फटने से गांव में हुए नुकसान का जायजा लिया. चमोली के मैठाणा में भी अलकनंदा के कटाव के चलते दो मकान ध्वस्त हो गए हैं.



आठ घंटे तक बंद रहा बदरीनाथ हाईवे

एक तरफ उत्तराखंड में बारिश से हालात बुरे हैं तो वहीं लोगों को भूस्खलन ने भी परेशान कर रखा है. श्रीनगर गढ़वाल में बदरीनाथ हाईवे आज लगातार बाधित होता रहा. फरासू में अलकनन्दा नदी के तेज बहाव के कारण बदरीनाथ हाईवे का अधिकांश हिस्सा नदी में समा गया है. दूसरी तरफ पहाड़ी से होते भूस्खलन के कारण 8 घंटे तक बदरीनाथ हाईवे पर आवाजाही बंद रही.


पहाड़ी की ओर रास्ता बनाकर किसी तरह ट्रैफिक को शुरू करवाया जा सका. लेकिन इसकी वजह से लोग घंटों फंसे रहे. आज सुबह बदरीनाथ हाईवे पर ज़मीन धंसने के कारण एक युवक मोटरसाइकिल समेत नीचे गिर गया था और अलकनंदा में बह गया था.
Loading...

ये भी पढ़ें:

66वें राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कारः उत्तराखंड को लगातार दूसरे साल बेस्ट फ़िल्म फ़्रेंडली राज्य का अवार्ड

पौ फटते ही हाहाकार....चमोली, टिहरी में 4 जानें ले गए बादल फटने से आए सैलाब, पौड़ी में नदी में बहा युवक

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए हरिद्वार से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 9, 2019, 6:01 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...