Home /News /uttarakhand /

राजाजी टाइगर रिजर्व के सफारीकर्मियों की हड़ताल, वाहनों की संख्या बढ़ाने की मांग

राजाजी टाइगर रिजर्व के सफारीकर्मियों की हड़ताल, वाहनों की संख्या बढ़ाने की मांग

वाहनों की संख्या बढ़ाने की मांग को लेकर हड़ताल करते सफारी संचालक

वाहनों की संख्या बढ़ाने की मांग को लेकर हड़ताल करते सफारी संचालक

राजाजी टाइगर रिजर्व प्रशासन द्वारा सफारी वाहनों की संख्या नहीं बढ़ाए जाने से परेशान 'सफारी वेलफेयर एसोसिएशन' ने गुरूवार से अनिश्चित कालीन हड़ताल की घोषणा कर दी है.

उत्तराखंड के राजाजी टाइगर रिजर्व में संचालित सफारी के कर्मी हड़ताल पर चले गए हैं. राजाजी टाइगर रिजर्व प्रशासन द्वारा सफारी वाहनों की संख्या नहीं बढ़ाए जाने से परेशान 'सफारी वेलफेयर एसोसिएशन' ने गुरूवार से अनिश्चित कालीन हड़ताल की घोषणा कर दी है. इस दौरान पार्क में सफारी बंद होने से पर्यटकों में भी मायूस नजर आ रही है.

'राजाजी सफारी वेलफेयर सोसायटी' का कहना है कि ‘प्रदेश वन महकमा एक राज्य में दो नियम लागू कर रहा हैं. कॉर्बेट नेशनल पार्क में पूर्व की भांति वाहनों की संख्या असीमित है जबकि राजाजी पार्क में अभी प्रत्येक गेट में वाहनों की संख्या 20 तक निर्धारित कर रखी गई है. जिसके चलते सफारीकर्मियों के  सामने रोजी-रोटी का संकट पैदा हो गया है. हम वन मंत्री और पार्क अधिकारी सभी से गुहार लगा चुके हैं, मगर हमारी मांग पर किसी ने ध्यान नहीं दिया. अब जब तक हमारी मांगे पूरी नहीं होंगी तब तक हम हड़ताल पर ही बैठे रहेंगे.’

वहीं दूसरी ओर देश-विदेश से यहां पहुंचने वाले सैलानियों को मायूस होना पड़ रहा है. पर्यटकों का कहना है वे इतनी दूर से राजाजी पार्क घूमने आए, मगर यहां सफारी का मजा नहीं ले पाए क्योंकि सफारी कर्मी हड़ताल पर बैठे हैं. प्रशासन को इनकी मांगों पर गौर करना चाहिए ताकि यहां आने वाले पर्यटकों को मायूस होकर वापस नहीं लौटना पड़े.

ये भी पढ़ें- प्रेमी जोड़े ने जहर खाकर दी जान, शादी के लिए तैयार नहीं हो रहे थे परिजन

ये भी पढ़ें- छात्रा को जलाने वाले टैक्सी चालक की हिरासत 4 जनवरी तक बढ़ाई गई

Tags: Rajaji National Park, Uttarakhnad news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर