VIDEO : गंगा के लिए अनशनरत संत ने बलात अस्‍पताल भेजे जाने पर जताई हत्‍या की आशंका

गत 37 दिनों से अनशनरत ब्रह्मचारी आत्मबोधानंद ने कहा कि उनकी हत्या करने के लिए उन्हें आश्रम से उठाया गया है.

गत 37 दिनों से अनशनरत ब्रह्मचारी आत्मबोधानंद ने कहा कि उनकी हत्या करने के लिए उन्हें आश्रम से उठाया गया है.

  • Share this:
    गंगा संरक्षण को लेकर उत्‍तराखंड में हरिद्वार के कनखल स्थित मातृ सदन आश्रम में गत 24 अक्टूबर से आमरण अनशन पर बैठे संत ब्रह्मचारी आत्मबोधानंद की स्वास्थ्य रक्षा के लिए गुरुवार को पुलिस और प्रशासन की टीम ने उन्‍हें ऋषिकेश स्थित एम्स में परीक्षण के लिए भिजवा दिया. हालांकि प्रशासन की इस कार्रवाई का अनशनरत संत और आश्रम में मौजूद अन्य संतों ने काफी विरोध किया, लेकिन प्रशासन के आगे किसी की एक न चली.

    गत 37 दिनों से अनशनरत ब्रह्मचारी आत्मबोधानंद ने कहा कि उनकी हत्या करने के लिए उन्हें आश्रम से उठाया गया है. उन्होंने एसडीएम और पुलिस प्रशासन पर यह गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि एक षड्यंत्र के तहत उन्हें यहां से उठाकर स्‍वामी सानंद की तरह मार दिया जाएगा और वे अब लौटकर इस आश्रम में नहीं आ पाएंगे. मातृ सदन के परमाध्यक्ष स्वामी शिवानंद ने आरोप लगाया कि अनशनरत संत का आश्रम से अपहरण किया गया है. उन्होंने एसडीएम, तहसीलदार और पुलिस प्रशासन पर संत का अपहरण करने का आरोप लगाया.

    उधर ऋषिकेश एम्स में कनखल थानाध्यक्ष ओमकांत भूषण और तहसीलदार हरिद्वार सुनैना राणा की सुरक्षा में ब्रह्मचारी आत्मबोधानंद को लाकर भर्ती कराया गया. डॉक्टरों द्वारा उनका मेडिकल चेकअप किया जा रहा है. ऋषिकेश एम्स में ब्रह्मचारी आत्मबोधानंद की सुरक्षा में सुरक्षाकर्मियों को तैनात कर दिया गया है.


    (हरिद्वार से तनुज वालिया और ऋषिकेश से आशीष डोभाल की रिपोर्ट)


    यह भी पढ़ें- 116 दिन से अनशन कर रहे संत गोपालदास को एम्स प्रशासन ने चंडीगढ़ PGI भेजा


    यह भी पढ़ें- हाईकोर्ट ने दिए 'गंगा-पुत्र' स्वामी सानंद का पार्थिव शरीर मातृसदन भेजने के आदेश

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.