Home /News /uttarakhand /

साध्‍वी प्राची के नेतृत्‍व में हजारों लोगों ने मातृ सदन पर बोला हमला

साध्‍वी प्राची के नेतृत्‍व में हजारों लोगों ने मातृ सदन पर बोला हमला

हरिद्वार में गंगा नदी से खनन चुगान की मांग को लेकर आंदोलन और तेज हो गया है. पिछले करीब 32 दिनों से अनशन कर रहे खनन व क्रेशर कार्यों से जुड़े हजारों लोगों ने खनन का विरोध कर रहें मातृ सदन आश्रम के स्वामी शिवानंद का उनके आश्रम में ही घेराव कर आश्रम पर हल्ला बोल दिया.

इसके बाद कुछ लोग जबरन आश्रम में घुस गए. खनन सर्मथक हजारों लोगों का नेतृत्व भाजपा की फायर ब्रांड नेत्री साध्वी प्राची कर रही थी. खनन सर्मथकों ने आंदोलन को और तेज करने की धमकी दी है. वहीं मातृ सदन के स्वामी शिवानंद ने आरोप लगाया कि उन्हें इसकी पहले से आशंका थी और यह सब मुख्यमंत्री हरीश रावत के इशारे पर हो रहा है.

खनन सर्मथक हजारों लोगो ने गुरुवार को साध्‍वी प्राची के नेतृत्व में मातृ सदन आश्रम का घेराव किया, जिसके बाद कुछ लोग जबरन आश्रम में घुस गए जिन्हें पुलिस ने बामुश्किल लाठियां फटकार उन्हें बाहर निकाला. हजारों लोगों ने हाइवे भी जाम किया. खनन समर्थकों का आरोप है कि पुलिस प्रशासन मातृ सदन के दबाव में काम कर रहा है. उन्हें 32 दिन हो गए अनशन पर बैठे हुए पर आज तक कोई अधिकारी उनकी सुध तक नहीं लेने आया उलटे उनके खिलाफ मुकदमें दर्ज कर दिये गए, जबकि मातृ सदन के संतों को जाकर प्रशासन बार बार मनाने की कोशिश कर रहा है.

वहीँ सीओ ने कहा की इन्हें चौक पर रोक दिया गया है. महिला पुलिस भी बुलाई गयी है. खनन सर्मथकों के साथ मातृ सदन आश्रम का घेराव करने साध्वी प्राची भी साथ पहुंची थी. साध्वी प्राची ने आरोप लगाया कि मातृ सदन के संत उत्‍तर प्रदेश के सहारनपुर के खनन माफिया के इशारे पर हरिद्वार में गंगा नदी में खनन का विरोध कर रहें हैं. उन्होंने मातृ सदन पर दादागिरी दिखाने का आरोप भी लगाते हुए कहा कि शिवानंद अपनी दादागिरी से यहां से हजारों गरीब लोगों के पेट पर लात मार रहे हैं. साध्वी प्राची ने यह भी कहा कि आखिर शिवानंद हरिद्वार में कहां तक कुंभ क्षेत्र हो इसको निर्धारित करने की मांग करने वाले कौन होते है. यह काम अखाड़ों का है.

उधर अपने आश्रम के घेराव की कोशिशों से बौखलाये मातृ सदन के संत स्वामी शिवानंद ने इस घटना के सीधे सीधे मुख्यमंत्री हरीश रावत को जिम्मेदार ठहराया. उन्होंने कहा कि उन्हें पहले से ही खनन सर्मथकों द्वारा उनके आश्रम पर हमला किये जाने की आंशका थी. उन्होंने कहा कि 24 घंटे के अन्दर उनके आश्रम पर हमला करने की कोशिश करने वाले स्टोन क्रेशर मालिकों व खनन सर्मथकों को गिरफ्तार किया जाये.

वहीँ सीएम हरीश रावत ने खनन खुलने की अटकलों पर आज विराम लगाते हुए कहा की वे अपने ऊपर कोई दाग लगाना नहीं चाहते की वे खनन वालों से मिले हुए हैं. इसके लिए चाहे कितने भी क्रशर बंद करने पड़े उन्हें स्वीकार है. उन्होंने शहर की जनता से निर्णय लेने की मांग की है की खनन को लेकर वे ही निर्णय लें. राजनीति को लेकर दोषारोपण किया जा रहा है.

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर