जनसंख्या असंतुलन चिंता की वजह, हिंदू हित ही देश का हितः विहिप

VHP महामंत्री ने कहा कि बांग्लादेशी घुसपैठियों की देश के संविधान, देश की परंपराओं के प्रति कोई आस्था नहीं है इसलिए ये देश की सुरक्षा के लिए खतरा हैं.

Deepankar Bhatt | News18 Uttarakhand
Updated: June 19, 2019, 8:07 PM IST
जनसंख्या असंतुलन चिंता की वजह, हिंदू हित ही देश का हितः विहिप
विश्व हिंदू परिषद की इस बैठक में कई अहम् प्रस्ताव पारित होने की उम्मीद है.
Deepankar Bhatt
Deepankar Bhatt | News18 Uttarakhand
Updated: June 19, 2019, 8:07 PM IST
विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) की 2 दिन की केंद्रीय मार्गदर्शक मंडल की बैठक की शुरुआत बुधवार से हरिद्वार में  हुई. इस बैठक में वीएचपी के पदाधिकारियों के अलावा तमाम संत-महंत भी शामिल हो रहे हैं. विश्व हिंदू परिषद की इस बैठक में कई अहम प्रस्ताव पारित होने की उम्मीद है. जिन प्रस्तावों पर बैठक में चर्चा होनी है, उनमें कश्मीरी पंडितों का पुनर्वास, राम जन्मभूमि, धारा-370, 35 ए, एनआरसी , जनसंख्या नियंत्रण के मुद्दे पर बात होगी और प्रस्ताव पास किए जाएंगे.

घुसपैठ बड़ी समस्या 

विश्व हिंदू परिषद के केंद्रीय महामंत्री मिलिंद परांडे ने न्यूज़ 18 से बात करते हुए कहा कि जनसंख्या असंतुलन एक बड़ी चिंता की वजह है. इसकी कई बड़ी वजहें हैं, जिनमें से एक समस्या बांग्लादेश और म्यांमार से घुसपैठ भी है. उन्होंने कहा कि इन घुसपैठियों की देश के संविधान, देश की परंपराओं के प्रति कोई आस्था नहीं है इसलिए ये देश की सुरक्षा के लिए खतरा हैं.

'जनसंख्या असंतुलन के बारे में हिंदू समाज सतर्क हो'

उन्होंने धर्मांतरण और ज़्यादा बच्चे पैदा होने को भी जनसंख्या असंतुलन का कारण बताया और कहा कि यह हिंदू समाज के विरुद्ध जा रहा है. परांडे ने कहा कि किसी भी हित के विरुद्ध न जाते हुए इस देश का हित हिंदू हित में है. इसलिए जनसंख्या असंतुलन के बारे में हिंदू समाज और सरकार को सतर्क होना चाहिए.

परांडे ने बताया कि केंद्रीय मार्गदर्शक मंडल की बैठक में राम जन्मभूमि के मुद्दे पर गुरुवार को चर्चा होगी. इस पर गुरुवार को प्रस्ताव पारित होने की संभावना है.

ये भी पढ़ें:
Loading...

मुस्लिम युवकों ने विहिप और बजरंग दल कार्यकर्ताओं पर बरसाए फूल

राम मंदिर को लेकर विहिप की शंखनाद सभा, साधुओं ने लहराई तलवारें

Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें.
First published: June 19, 2019, 7:33 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...