जानिए कहां सेना के जवानों के ख़िलाफ़ ग्रामीणों ने दर्ज करवाया मुक़दमा? क्या है यह पूरा मामला?

रुड़की के टोडाकल्याणपुर गांव के लोगों और आर्मी केंट एरिया में ग्रामीणों और सेना के बीच एक रास्ते को लेकर विवाद चल रहा है.

रुड़की के टोडाकल्याणपुर गांव के लोगों और आर्मी केंट एरिया में ग्रामीणों और सेना के बीच एक रास्ते को लेकर विवाद चल रहा है.

  • Share this:
हरिद्वार. रुड़की में रास्ते को लेकर गुरुवार सेना और ग्रामीणों के बीच बवाल अभी सुलझा नहीं है. गुरुवार को हुई पत्थरबाज़ी के बाद शुक्रवार का दिन कानूनी दांव-पेंच का रहा. आज सिविल लाइन कोतवली में पुलिस ने लॉकडाउन, धारा 144 का उल्लंघन करने के आरोप में 25 लोगों पर नामजद और 200 अज्ञात के खिलाफ एफ़आईआर दर्ज कर दी है. सेना ने भी अलग-अलग दो तहरीर में 7 लोगों के ख़िलाफ़ नामजद और कई अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज करवाया है. दूसरी ओर ग्रामीणों ने भी 4 जवानों के ख़िलाफ़ नामजद और 200 अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाया है.

पहले से था विवाद

रुड़की के टोडाकल्याणपुर गांव के लोगों और आर्मी केंट एरिया में ग्रामीणों और सेना के बीच एक रास्ते को लेकर विवाद चल रहा है जो सुलझने का नाम नहीं ले रहा है. गुरुवार को टोडा कल्याणपुर और नंदा कॉलोनी के निवासी रास्ता खोलने को लेकर कैंट क्षेत्र में सेना के अधिकारियों से बातचीत करने पहुंचे थे.

बातचीत के दौरान ही मामला उलझ गया और सेना के अफ़सरों और ग्रामीणों में जमकर नोकझोंक हो गई. यह नोकझोंक इतनी बढ़ी कि पत्थरबाजी और  पानी की बौछार तक शुरू हो गयी जिसमें कुछ ग्रामीण महिलाएं घायल भी हो गईं.
आरोप

ग्रामीणों का आरोप है कि पिछले दिनों एक गर्भवती महिला को अस्पताल ले जाने के लिए आई एम्बुलेंस को गेट के अंदर नहीं आने दिया गया जिसकी वजह से नवजात की मौत हो गई. इसकी वजह से ग्रामीण भड़के हुए हैं और इस मामले को हमेशा के लिए सुलटाना चाहते हैं.

हरिद्वार के एसपी देहात ने कहा कि रास्ते का यह विवाद काफी लंबे समय से जारी है. इस विषय पर दोनों पक्षों में कई बार वार्ता भी हो चुकी है और दोनों पक्षों के बीच सुलह कराने की कोशिश भी की गई है लेकिन गुरुवार को माहौल बिगड़ने के बाद अब दोनों पक्षों की ओर से एफ़आईआर दर्ज कर ली गई है. मामले की जांच की जा रही है.



यह भी देखें: 


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज