लाइव टीवी

जंगल से भटकता घायल सांभर रिहायशी इलाके में पहुंचा, रेस्क्यू में जुटा वन विभाग

News18 Uttarakhand
Updated: November 30, 2019, 5:09 PM IST
जंगल से भटकता घायल सांभर रिहायशी इलाके में पहुंचा, रेस्क्यू में जुटा वन विभाग
वन महकमे की पकड़ से छूट कर गंगनहर में बार बार कूद जा रहा है सांबर

हरिद्वार (Haridwar) वन महकमे और आपदा प्रबंधन (Disaster Management) की टीम को इस सांभर को रेस्क्यू करने में पसीने छूट गए हैं. तमाम प्रयासों के बावजूद यह सांभर कई बार वन महकमे की पकड़ से छूट कर गंगनहर (Gang Nahar) में बार बार कूद जा रहा है.

  • Share this:
हरिद्वार. वन्यजीवों का आबादी क्षेत्र में प्रवेश करने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है. आज शनिवार को सुबह एक बार फिर एक सांभर (Sambar) जंगल से भटकते हुए कुंभ मेला के अधिकारी दीपक रावत के आवास में घुस आया. दीपक रावत ने इसकी सूचना आपदा प्रबंधन (Disaster Management) और वन महकमे (Forest Department) को दी. सूचना मिलते ही वन महकमे के अधिकारी और कर्मचारी मौके पर पहुंचे. हरिद्वार वन महकमे और आपदा प्रबंधन की टीम को इस सांभर को रेस्क्यू करने में पसीने छूट गए हैं. तमाम प्रयासों के बावजूद यह सांभर कई बार वन महकमे की पकड़ से छूट कर गंगनहर में बार बार कूद जा रहा है. जल पुलिस व वन महकमा सांभर के रेस्क्यू में अभी भी लगा हुआ है.

हरिद्वार वन महकमे और आपदा प्रबंधन की टीम को इस सांभर को रेस्क्यू करने में पसीने छूट गए हैं.


सांबर की नाक से बह रहा है खून

वहीं कुंभ मेलाधिकारी दीपक रावत ने बताया कि उन्हें उनके विभाग के एक कर्मचारी ने घर में सांभर के प्रवेश करने की सूचना दी. उन्होंने सांभर को घायल अवस्था में देखा जिसकी नाक से खून बह रहा था. इसके बाद उन्होंने तुरंत ही इसकी सूचना आपदा प्रबंधन और वन विभाग को दी. बता दें कि सांभर को रेस्क्यू करने में आपदा प्रबंधन और वन विभाग के कर्मी लगे हुए हैं.



(देहरादून से सुनील पाल की रिपोर्ट)

ये भी पढ़ें- वैष्णो देवी मंदिर की तर्ज पर बनेगा चारधाम श्राइन बोर्ड, कैबिनेट ने दी मंज़ूरी
Loading...

फिर उभरा राज्य आंदोलनकारियों का दर्द, पूछा- क्षैतिज आरक्षण पर चुप क्यों सरकार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए हरिद्वार से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 30, 2019, 2:21 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...