लाइव टीवी

जानें, आखिर विभागों को लेकर क्यों संतुष्ट नहीं हैं हरीश रावत के मंत्री
Bageshwar News in Hindi

Faheem Tanha | ETV UP/Uttarakhand
Updated: August 3, 2016, 2:22 PM IST
जानें, आखिर विभागों को लेकर क्यों संतुष्ट नहीं हैं हरीश रावत के मंत्री
File Photo

उत्तराखंड मंत्रिमंडल में फेरबदल के तो अपने मायने हैं ही साथ ही विभागों के बंटवारे के भी अलग अलग मतलब निकाले जा रहे हैं. विभाग बंटवारे के बाद खुद कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय कह चुके हैं कि ऐसा लगना चाहिए कि कांग्रेस की सरकार चल रही है. वहीं पीडीएफ के मंत्री भी कह रहे हैं कि पीडीएफ के कारण ही कांग्रेस की सरकार चल रही है.

  • Share this:
उत्तराखंड मंत्रिमंडल में फेरबदल के तो अपने मायने हैं ही साथ ही विभागों के बंटवारे के भी अलग अलग मतलब निकाले जा रहे हैं. विभाग बंटवारे के बाद खुद कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय कह चुके हैं कि ऐसा लगना चाहिए कि कांग्रेस की सरकार चल रही है. वहीं पीडीएफ के मंत्री भी कह रहे हैं कि पीडीएफ के कारण ही कांग्रेस की सरकार चल रही है.


मंत्रिमंडल का विस्तार हो चुका है. नए मंत्रियों को विभाग भी मिल चुके हैं. साथ ही तीन पुराने मंत्रियों को एक-एक अतिरिक्त विभाग भी मुख्यमंत्री ने दे दिया है. कहा जा रहा है कि नए मंत्रियों को मनमाफिक विभाग नहीं मिले हैं. तो वहीं पुराने मंत्रियों को अतिरिक्त विभाग मिलने को भी प्रेशर पोलिटिक्स का नतीजा और संकट में सरकार का साथ देने का नतीजा माना जा रहा है.



पीडीएफ कोटे के मंत्री प्रीतम पंवार को मिला उद्यान विभाग और दिनेश धने को मिला चिकित्सा शिक्षा विभाग भी ऑन डिमांड माना जा रहा है. विभाग बंटवारे के बाद कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने पीडीएफ के मंत्रियों को मिली तवज्जो पर टिप्पणी करते हुए कहा था कि ऐसा लगना चाहिए कि कांग्रेस की सरकार चल रही है.


अब पीडीएफ के मंत्री दिनेश धने कहते हैं कि उन्होंने विभागों की मांग नहीं की है लेकिन कांग्रेस की सरकार पीडीएफ के कारण ही चल रही है. अगर पीडीएफ नहीं होता तो कांग्रेस की सरकार नहीं होती.

मलाईदार विभागों को लेने के लिए कई मंत्रियों में बैचेनी मानी जाती है. कहा जा रहा है कि नवप्रभात कृषि और उद्यान विभाग भी लेना चाहते थे लेकिन ऐसा हो नहीं पाया. मंत्री राजेंद्र भंडारी समाज कल्याण विभाग भी लेना चाहते थे, लेकिन मंत्री सुरेंद्र सिंह नेगी समाज कल्याण को छोड़ने को राजी नहीं हुए.


मंत्री यशपाल आर्य को मिला आपदा प्रबन्धन विभाग बहुगुणा सरकार में आर्य के पास ही था. जिसको हरीश रावत सरकार में हटा दिया गया था. नए मंत्री नवप्रभात सारी चर्चाओँ को खारिज करते हुए कहते हैं कि विभाग कोई भी हो काम राज्य हित में होना चाहिए.


बहरहाल विभागों को लेकर मंत्री कोई डिमांड या प्रेशर पॉलिटिक्स की बात कैमरे के सामने नकार रहे हैं. लेकिन चुनौती भरा बड़ा सवाल ये है कि नए विभागों में मंत्री कुछ महीनों के कार्यकाल में क्या करिश्मा करेंगे ये देखना दिलचस्प होगा.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बागेश्‍वर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 3, 2016, 10:38 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर