लाइव टीवी

Indo-Nepal सीमा विवादः नेपाल की नापाक हरकत, नक्शे में शामिल किए 3 इलाके, बना रहा 500 चेकपोस्ट
Pithoragarh News in Hindi

Vijay Vardhan | News18 Uttarakhand
Updated: May 20, 2020, 2:32 PM IST
Indo-Nepal सीमा विवादः नेपाल की नापाक हरकत, नक्शे में शामिल किए 3 इलाके, बना रहा 500 चेकपोस्ट
नेपाल ने लिपुलेख सड़क पर अपना विरोध भी दर्ज कराया है.

नेपाल (Nepal) अपने हर चेक पोस्ट (Check Post) पर एक प्लाटून सशस्त्र प्रहरी बल (platoon armed guard) को तैनात करने की योजना तैयार कर रहा है. 

  • Share this:
पिथौरागढ़. भारत के नजरिए से अति अहम लिपुलेख सड़क (Lipulekh Road) का उद्घाटन होने के बाद से ही बॉर्डर इलाकों में नेपाल (Nepal) ने अपनी सक्रियता बढ़ा दी है. लिपुलेख सड़क पर विरोध जताने के साथ नेपाल ने नया नक्शा तैयार किया है, जिसमें लिपुलेख, कालापानी और लिम्पियाधुरा को अपने हिस्से के तौर पर दर्शाया गया है. वहीं दूसरी तरफ, नेपाली गृह मंत्रालय ने अब भारत और चीन (China) से सटे बॉर्डर पर 500 नए चेकपोस्ट बनाने की कवायद शुरू कर दी है. नेपाल की योजना के तहत, हर चेक पोस्ट पर एक प्लाटून सशस्त्र प्रहरी बल की तैनाती होनी है.

उल्‍लेखनीय है कि वर्तमान में नेपाल के भारत और चीन से सटे इलाकों में 121 चेक पोस्ट हैं. नेपाल इन चेक पोस्टों के जरिए लिपुलेख, कालापानी और लिम्पियाधुरा में होने वाली हर गतिविधि पर आसानी से नजर रख सकता है. इससे पहले छांगरू में बनाई गई स्थायी चेक पोस्ट में नेपाल ने सशस्त्र प्रहरियों के साथ नेपाल प्रहरी के जवानों को तैनात किया है. असल में, नेपाल बॉर्डर पर थ्री लेयर सिक्‍योरिटी के तहत सुरक्षाबलों की तैनाती करता है. जिसमें सबसे पहले बिना हथियारों के नेपाल प्रहरी तैनात रहते हैं. जबकि, सेकेंड लेयर पर तैनात सशस्त्र प्रहरी हथियारों से लैस रहते हैं.

नेपाल के कदम से सीमा पर बढ़ा तनाव
अंतिम और सबसे मजबूत तीसरी लेयर में नेपाली की सेना की तैनाती होती है. जो सभी तरह के जरूरी हथियारों के साथ मौजूद रहती है. वहीं पिथौरागढ़ की बार्डर तहसील धारचूला में लिपुलेख, कालापानी और लिम्पियाधुरा को अपने नक्शे में शामिल करने पर सीमांत के लोगों में खासी नाराजगी भी देखने को मिल रही है. कल्याण समिति के अध्यक्ष कृष्णा गर्बयाल का कहना है कि नेपाल का ये कदम सरासर गलत है. वे कहते हैं कि सीमा बंटवारे के समय गर्वयालों की काफी जमीन काली नदी के पार भी थी. लेकिन वे उसे छोड़ आए थे. आज भी नेपाल स्थित माउंट अपि, तिपिल, छ्यक्त, छिरे और शिमाकल में गुंजी के गर्वयालों की हजारों नाली नाप भूमि है.



 



ये भी पढ़ें :-

5 लाख रुपये वाली इस योजना के बारे में वायरल हो रही हैं फेक जानकारी, बचकर रहें!
VIDEO: जब शेरों के झुंड ने किया ट्रैफिक जाम तो लोग करते रह गए हटने का इंतज़ार
विधानसभा अध्यक्ष से रामगोविंद चौधरी की अपील- आजम खान के परिवार को पैरोल दी जाए
First published: May 20, 2020, 1:04 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading