जितना कूड़ा उतना टैक्स, प्लास्टिक के खिलाफ उत्तराखंड सरकार की सर्जिकल स्ट्राइक

उत्तराखंड में आना अब पर्यटकों की जेब पर भारी पड़ेगा. उत्तराखंड राज्य सरकार अब पर्यटकों से एक नया टैक्स वसूलने जा रही है. होटल और रेस्तरां जितना कूड़ा पैदा करेंगे, उस हिसाब से उन्हें टैक्स देना होगा. ज़ाहिर है ये टैक्स पर्यटकों से वसूला जाएगा

Robin Singh Chauhan
Updated: July 8, 2019, 11:14 AM IST
जितना कूड़ा उतना टैक्स, प्लास्टिक के खिलाफ उत्तराखंड सरकार की सर्जिकल स्ट्राइक
जितना कूड़ा, उतना टैक्स
Robin Singh Chauhan
Updated: July 8, 2019, 11:14 AM IST
उत्तराखंड में आना अब पर्यटकों की जेब पर भारी पड़ेगा. उत्तराखंड राज्य सरकार अब पर्यटकों से एक नया टैक्स वसूलने जा रही है. होटल और रेस्तरां जितना कूड़ा पैदा करेंगे, उस हिसाब से उन्हें टैक्स देना होगा. प्लास्टिक के इस्तमाल को रोकने के लिए ये टैक्स लाया जा रहा है जो कि  होटलों और रेस्तरां के माध्यम से पर्यटकों से वसूला जाएगा. स्थानीय होटल एसोसिएशन ने इस नए टैक्स का विरोध किया है. एसोसिएशन का आरोप है कि नगर निगम और नगर पालिकाओं के पास खुद कूडे के निस्तारण की कोई व्यवस्था नही है तो वो चार्ज कैसे लगा सकते हैं.

होटलों और रेस्तरां से निकलने वाले प्लास्टिक पर लगेगा टैक्स
पर्यवारण मंत्री हरक सिंह रावत ने इस नए टैक्स का ऐलान किया है. होटलों और रेस्तरां ये वसूला जाने वाला ये टैक्स दरअसल पर्यटकों से ही वसूला जाएगा. खास तौर पर होटलों और रेस्तरां से निकलने वाले प्लास्टिक पर ये टैक्स लगाया जाएगा. उनके बिल में ये चार्ज अलग से लगाया जाएगा. पर्यटन मंत्री के मुताबिक इस नए कर से स्वच्छता को तो बढावा मिलेगा ही साथ ही राजस्व आय भी बढ़ेगी. उन्होंने बताया कि इस तरह की व्यवस्था विदेशों में पहले से है, और इससे उनकी सफाई व्यवस्था बेहतर हुई है. उन्होंने कहा कि जब वहां जब इस तरह की व्यवस्था है तो यहां क्यों नही हो सकती.

होटल एसोसिएशन ने जताया विरोध

होटल और पर्यटन से जुडे व्यवसायी इस फैसले से इत्तेफाक नही रखते. उनका कहना है कि वो पहले ही नगर पालिका और नगर निगमों को टैक्स देते हैं तो फिर अलग से टैक्स कि क्या जरुरत है. वो कहते हैं कि नगर निगम के पास खुद कूडे के निस्तारण की कोई व्यवस्था नही है तो वो कैसे चार्ज लगाएगी. उत्तराखण्ड एसोसिएशन के सदस्य मनु कोच्चर की आपत्ति है कि टैक्स लगा देना इस मसले का हल नहीं है.

प्लास्टिक के इस्तेमाल पर रोक ज़रूरी
कूडे पर टैक्स लगाना और उसे पर्यटकों से वसूलने का ईरादा तो नेक है, क्योंकि प्रदेश में आने वाले पर्यटक प्लास्टिक का इस्तमाल कर रहे है. और इस पर होटल मालिकों की भी जिम्मेदारी तय होनी चाहिए. लेकिन किसी भी समस्य के निस्तारण के लिए क्या टैक्स लगाना ही क्या आखिरी विकल्प है, ये बड़ा सवाल है.
Loading...

ये भी पढ़ें -

दुष्कर्म की शिकार बच्ची की आंत फटी, डॉक्टर ने बंद किए प्राइवेट पार्ट्स

PHOTOS: यमुना एक्सप्रेसवे पर सुबह 4:30 बजे हुआ हादसा, सोते रह गए 29 लोग

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 8, 2019, 11:12 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...