Home /News /uttarakhand /

पीडीएफ के साथ गठबंधन के भविष्य को लेकर किशोर उपाध्याय ने खोला मोर्चा

पीडीएफ के साथ गठबंधन के भविष्य को लेकर किशोर उपाध्याय ने खोला मोर्चा

भगवानपुर उपचुनाव में शानदार जीत के साथ ही कांग्रेस में पीडीएफ के साथ गठबंधन पर सवाल उठने शुरू हो गए हैं. इस बार किसी विधायक या पार्टी नेता ने नहीं बल्कि खुद पीसीसी अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने पीडीएफ के साथ गठबंधन के भविष्य को लेकर मोर्चा खोला है. किशोर उपाध्याय ने कहा है कि 2012 में सरकार बनाने में पीडीफ ने हमें सहयोग दिया था और हमने भी उनका पूरा सम्मान रखा, लेकिन अब कांग्रेस का प्रदेश में मुखिया होने के नाते मेरा फर्ज है कि मैं पार्टी के हितों का भी ध्यान रखूं.

भगवानपुर उपचुनाव में शानदार जीत के साथ ही कांग्रेस में पीडीएफ के साथ गठबंधन पर सवाल उठने शुरू हो गए हैं. इस बार किसी विधायक या पार्टी नेता ने नहीं बल्कि खुद पीसीसी अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने पीडीएफ के साथ गठबंधन के भविष्य को लेकर मोर्चा खोला है. किशोर उपाध्याय ने कहा है कि 2012 में सरकार बनाने में पीडीफ ने हमें सहयोग दिया था और हमने भी उनका पूरा सम्मान रखा, लेकिन अब कांग्रेस का प्रदेश में मुखिया होने के नाते मेरा फर्ज है कि मैं पार्टी के हितों का भी ध्यान रखूं.

भगवानपुर उपचुनाव में शानदार जीत के साथ ही कांग्रेस में पीडीएफ के साथ गठबंधन पर सवाल उठने शुरू हो गए हैं. इस बार किसी विधायक या पार्टी नेता ने नहीं बल्कि खुद पीसीसी अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने पीडीएफ के साथ गठबंधन के भविष्य को लेकर मोर्चा खोला है. किशोर उपाध्याय ने कहा है कि 2012 में सरकार बनाने में पीडीफ ने हमें सहयोग दिया था और हमने भी उनका पूरा सम्मान रखा, लेकिन अब कांग्रेस का प्रदेश में मुखिया होने के नाते मेरा फर्ज है कि मैं पार्टी के हितों का भी ध्यान रखूं.

अधिक पढ़ें ...
    भगवानपुर उपचुनाव में शानदार जीत के साथ ही कांग्रेस में पीडीएफ के साथ गठबंधन पर सवाल उठने शुरू हो गए हैं. इस बार किसी विधायक या पार्टी नेता ने नहीं बल्कि खुद पीसीसी अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने पीडीएफ के साथ गठबंधन के भविष्य को लेकर मोर्चा खोला है. किशोर उपाध्याय ने कहा है कि 2012 में सरकार बनाने में पीडीफ ने हमें सहयोग दिया था और हमने भी उनका पूरा सम्मान रखा, लेकिन अब कांग्रेस का प्रदेश में मुखिया होने के नाते मेरा फर्ज है कि मैं पार्टी के हितों का भी ध्यान रखूं.

    पीसीसी चीफ ने कहा है कि जल्दी ही पीडीएफ नेताओं के साथ बैठक कर भविष्य में उनकी रणनीति क्या होगी, इसपर जवाब मांगा जाएगा. पीसीसी चीफ ने कहा कि पीडीएफ के सदस्यों से पूछा जाएगा कि 2017 में वो कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ेंगे या फिर निर्दलीय या किसी और दल के टिकट से. किशोर उपाध्याय ने कहा कि 2017 से समय कांग्रेस के सामने कोई दुविधा की स्थिति न आए और पीडीएफ नेताओं के सम्मान को भी ठेस न लगे, इसके लिए जरूरी है कि चीजों को पहले ही स्पष्ट कर लिया जाए.

    पीसीसी चीफ का बयान आते ही मंत्रिपद के लिए छटपटा रहे कांग्रेस विधायक किशोर उपाध्याय के सुर में सुर मिला रहे हैं. पूर्व मंत्री और कांग्रेस विधायक हीरा सिंह बिष्ट का कहना है कि विधानसभा में पार्टी ने छत्तीस का आंकड़ा छू लिया है और अब जबकि कांग्रेस के पास पूर्ण बहुमत है तो फिर पार्टी के हित में कोई फैसला लिया ही जाना चाहिए. कांग्रेस में उठ रहे इन स्वरों पर मुख्यमंत्री ने चुप्पी साध रखी है. वहीं पीडीएफ नेताओं का कहना है कि जब उनसे पूछा जाएगा तो वो बता देंगे कि साल 2017 को लेकर उनके क्या प्लान हैं.

    आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.

     

     

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर