MLA Mahesh Negi Case: अब पौड़ी महिला थाना करेगी मामले की जांच, हो सकता है DNA टेस्ट

 पूरा मामला पौड़ी पुलिस को ट्रांसफर कर दिया गया है.
पूरा मामला पौड़ी पुलिस को ट्रांसफर कर दिया गया है.

बीजेपी विधायक महेश नेगी (BJP MLA Mahesh Negi) केस में आईजी गढ़वाल अभिनव कुमार ने संज्ञान लेते ही चार्जशीट को रोलबैक कर पूरे मामले की जांच अब महिला थाना पौड़ी को दे दी है.

  • Share this:
देहरादून. उत्तराखंड (Uttarakhand) की सुर्खियों में शुमार बीजेपी विधायक महेश नेगी (BJP MLA Mahesh Negi) का ब्लैकमेलिंग और यौन शोषण (Blackmailing and Sexual Exploitation) मामले में अब नया मोड़ आ गया है. जहां एक तरफ देहरादून पुलिस ने ब्लैकमेलिंग मामले में चार्टशीट फाइल कर दी थी. वहीं दूसरी तरफ पूरे मामले में आईजी गढ़वाल अभिनव कुमार ने संज्ञान लेते ही चार्जशीट को रोलबैक कर पूरे मामले की जांच अब महिला थाना पौड़ी को दे दी है. यानी कि अब दोनों मामले पहला ब्लैकमेलिंग और दूसरा मामला यौन शोषण में महिला थाना पौड़ी एक बार फिर जांच शुरू करेगी.

इसके आदेश को आज ही गढ़वाल अभिनव कुमार ने जारी कर दिए हैं. वही आईजी अभिनव कुमार ने बताया कि एसएसपी देहरादून की स्वीकृति के बाद ही निर्णय लिया गया है. साथ ही अब मामले में महिला द्वारा दी गई तहरीर में डीएनए को लेकर भी आईजी का कहना है कि विधिक राय लेकर डीएनए की भी जांच की जाएगी.

महिला ने दर्ज कराया था केस



आपको बता दें 13 अगस्त से शुरू हुआ यह पूरा मामला राज्य की सुर्खियों में लगातार रहा जिसमें  विधायक महेश नेगी की पत्नी ने थाना नेहरू कॉलोनी में महिला के खिलाफ एक एप्लीकेशन दी थी. एप्लिकेशन के तहत पुलिस ने ब्लैकमेलिंग और विधायक की छवि खराब करने के तहत महिला, महिला की मां, भाबी के साथ महिला के पति के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू की. तो वहीं महिला ने भी कोर्ट के माध्यम से विधायक महेश नेगी के खिलाफ यौन शोषण मामले में मुकदमा दर्ज करवाया था, जिसमें ब्लैकमेलिंग मामले की जांच सीओ सदर अनुज कुमार ने अपनी जांच रिपोर्ट पूरी कर कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दी है.


ये भी पढ़ें: Rajasthan: इंटेलिजेंस इनपुट पर बाड़मेर पुलिस की कार्रवाई, सेना की फर्जी ID के साथ गुजरात के दो शख्स गिरफ्तार

वहीं चार्जशीट में केवल महिला को ही ब्लैकमेलिंग का आरोपी माना गया हैं और अन्य लोगों का नाम पुलिस की जांच रिपोर्ट से बाहर कर दिए गए हैं. वहीं महिला की यौन शोषण मामले में एसआईएस यानी कि स्पेशल इन्वेस्टिगेशन स्क्वायड की जांच अभी भी जारी है और कभी भी एसआईएस अपनी जांच रिपोर्ट को फाइनल रूप देकर अलग से चार्जशीट फाइल करनी थी. लेकिन उससे पहले ही पूरा मामला अब दून पुलिस से हटकर आईजी गढ़वाल ने पौड़ी जिले को ट्रांसफर कर दिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज