लाइव टीवी

लंगूरों और बंदरों के आतंक से परेशान ऋषिकेश पुलिस

Shelendra Rawat | ETV UP/Uttarakhand
Updated: June 8, 2016, 11:28 AM IST
लंगूरों और बंदरों के आतंक से परेशान ऋषिकेश पुलिस
पुलिस को आपने बढ़ते अपराध को लेकर ज्यादातर परेशान होते देखा होगा, लेकिन तीर्थनगरी ऋषिकेश में पुलिस बढ़ते अपराध से ज्यादा कोतवाली के आस-पास बदरों और लंगूरों के आतंक से परेशान है.

पुलिस को आपने बढ़ते अपराध को लेकर ज्यादातर परेशान होते देखा होगा, लेकिन तीर्थनगरी ऋषिकेश में पुलिस बढ़ते अपराध से ज्यादा कोतवाली के आस-पास बदरों और लंगूरों के आतंक से परेशान है.

  • Share this:
पुलिस को आपने बढ़ते अपराध को लेकर ज्यादातर परेशान होते देखा होगा, लेकिन तीर्थनगरी ऋषिकेश में पुलिस बढ़ते अपराध से ज्यादा कोतवाली के आस-पास बदरों और लंगूरों के आतंक से परेशान है.

तीर्थनगरी ऋषिकेश में बदरों के आतंक से स्थानीय लोगों के साथ ही यहां आने वाले लाखों पर्यटक भी परेशान रहते हैं. पुलिस वालों का कहना है कि बंदर और लंगूर लोगों के घरों में घूस जाते हैं और सामान तो घरों से लुटकर ले ही जाते हैं साथ ही लोगों पर हमला तक कर देते हैं.

आमतौर पर लोगों को चोरों और लुटेरों से निजात दिलाने वाली पुलिस भी बंदरों और लंगूरों की शिकार बन रही है. कोतवाली ऋषिकेश तो बंदरों का ठिकाना बन गया है. सीनियर एसआई गजेंद्र बहुगुणा का कहना है कि बंदर पुलिसकर्मियों के आवासों में लगातार चोरी कर लेते हैं और बच्चों पर भी हमले करते हैं इसलिए अब वन विभाग की मदद से कोतवाली में बंदरों और लंगूरों को पकड़ने के लिए पिंजरे लगा गए हैं.

स्थानीय लोगों का कहना है कि पुलिस के लिए तो वन विभाग ने पिजरे लगा दिए, लेकिन आम शहरवासी को भी बंदरों और लंगूरों के आतंक के बचाना भी वन विभाग का ही काम है जो कि वन विभाग ने वर्षों से ठंडे बस्ते में डाला हुआ है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए हरिद्वार से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 8, 2016, 11:28 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...