होम /न्यूज /उत्तराखंड /

Nainital: लाखों का बजट, फिर भी गांवों के आंगनबाड़ी खस्ताहाल; शौचालय है तो दरवाजा नहीं

Nainital: लाखों का बजट, फिर भी गांवों के आंगनबाड़ी खस्ताहाल; शौचालय है तो दरवाजा नहीं

Nainital News: भवाली टीबी सेनेटोरियम के नजदीक दो आंगनबाड़ी केंद्र हैं, जहां के हालात भी बेहद खराब हैं. यह केंद्र सरकारी भवनों में चल रहे हैं, जिनके न तो दरवाजे ठीक हैं और न ही खिड़कियां.

हिमांशु जोशी

नैनीताल. एक तरफ राज्य सरकार जहां आंगनबाड़ी केंद्रों पर करोड़ों रुपये खर्च कर रही है, तो दूसरी ओर अनेकों केंद्रों की हालत बेहद ही खराब है. वर्तमान में नैनीताल जिले में करीब 1400 आंगनबाड़ी केंद्र हैं, लेकिन इनमें ग्रामीण क्षेत्रों में काफी संख्या में आंगनबाड़ी केंद्रों की हालत जर्जर है. कहीं लाइट की समस्या है, तो कहीं पानी की दिक्कत है. यही नहीं, कहीं शौचालय हैं, तो दरवाजे नहीं और कहीं तो शौचालय ही नहीं हैं.

ग्रामीण क्षेत्रों के आंगनबाड़ी केंद्रों की स्थिति ज्यादा खराब है. यहां आंगनबाड़ी केंद्र सरकारी इमारतों में चल रहे हैं. इन इमारतों की हालत बेहद खराब है. केंद्रों पर बच्चों के लिए भोजन की व्यवस्था तो है, लेकिन भोजन की गुणवत्ता अक्सर सवालों के घेरे में रहती है.

बदहाल हैं आंगनबाड़ी केंद्र

तल्ला भूमियाधार में मौजूद आंगनबाड़ी केंद्र की बात करें, तो यहां का भवन जर्जर हालत में है. यह आंगनबाड़ी केंद्र यहां के पंचायत घर में चलता है. यहां शौचालय की कोई व्यवस्था नहीं है. यहां की सहायिका गीता आर्य ने बताया कि बरसात के दौरान बच्चों को बैठाने में काफी परेशानी हो जाती है. बरसात में तो बच्चों को लाने में भी डर लगा रहता है.

भवाली टीबी सेनेटोरियम के नजदीक दो आंगनबाड़ी केंद्र हैं, जहां के हालात भी बेहद खराब हैं. यह केंद्र सरकारी भवनों में चल रहे हैं, जिनके न तो दरवाजे ठीक हैं और न ही खिड़कियां. फर्श पर सीमेंट नहीं और खाना बनाने के लिए रसोई नहीं है. यहां की सहायिका संगीता आर्य ने बताया कि फिलहाल 5 बच्चे इस आंगनबाड़ी केंद्र में पंजीकृत हैं. सेंटर में खिलौनों की व्यवस्था तो ठीक है लेकिन बिजली, शौचालय न होना बड़ी दिक्कत है.

भूमियाधार गांव की प्रधान अनिता का कहना है कि भूमियाधार में आंगनबाड़ी केंद्र के लिए जमीन या फिर किराए में मकान ढूंढा जा रहा है. वहीं ब्लॉक प्रमुख डॉ हरीश बिष्ट का कहना है कि सरकार से बजट नहीं आने की वजह से इन केंद्रों की हालत सुधारना काफी मुश्किल है.

Tags: Nainital news

अगली ख़बर