Home /News /uttarakhand /

Uttarkashi Scam : करोड़ों के घोटाले के आरोप में फंसे जिपं अध्यक्ष, हाईकोर्ट के एक्शन से बढ़ सकती हैं मुश्किलें!

Uttarkashi Scam : करोड़ों के घोटाले के आरोप में फंसे जिपं अध्यक्ष, हाईकोर्ट के एक्शन से बढ़ सकती हैं मुश्किलें!

उत्तराखंड हाई कोर्ट भवन.

उत्तराखंड हाई कोर्ट भवन.

Uttarakhand News : उत्तराखंड के शासन प्रशासन पर एक बड़े घोटाले का आरोप लगा है और आरोप लगाया भी एक बीजेपी नेता (BJP Leader) ने ही है. बजट को खत्म करने के लिए मनमानी करने और अच्छी खासी रकम की गड़बड़ी (Financial Irregularity) करने के आरोप में सीबीआई जांच (CBI Probe) तक की मांग की है. फिलहाल हाई कोर्ट ने इस मामले में तमाम विभागों से जवाब मांगा है.

अधिक पढ़ें ...

नैनीताल. उत्तरकाशी जिला पंचायत अध्यक्ष की मुश्किलें बढ़ने जा रही हैं. वित्तीय अनिमितताओं के आरोप और मनमानी से बजट ठिकाने लगाने के मामले में हाईकोर्ट ने सरकार से जवाब तलब किया है. हाई कोर्ट ने प्रमुख सचिव पंचायती राज, कमिश्नर गढ़वाल, डीएम उत्तरकाशी समेत जिला पंचायत अध्यक्ष दीपक बिजलवाण को नोटिस जारी किया है और 6 हफ्तों के भीतर जवाब दाखिल करने का आदेश दिया है. दरअसल बीजेपी नेता कुंवर जपिंदर सिंह ने हाई कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल कर कहा कि उत्तरकाशी जिला पंचायत में करोड़ों का घोटाला हुआ है और इस घोटाले में जिला पंचायत अध्यक्ष समेत अन्य अधिकारी शामिल रहे हैं.

बीजेपी नेता ने की सीबीआई जांच की मांग
भाजपा नेता सिंह ने हाई कोर्ट में याचिका दायर करते हुए करोड़ो के घोटाले का आरोप लगाकर इस मामले में सीबीआई जांच की मांग उठाई. याचिका में कहा कि 5 दिसंबर 2020 को डीएम उत्तरकाशी की रिपोर्ट में भी वित्तीय अनिमितताओं की बात सामने आई थी और डीएम ने इस पूरे मामले की उच्च स्तरीय जांच के लिए अपना पक्ष दिया था. 18 जनवरी 2021 को पंचायती राज ने डीएम को जांच अधिकारी नियुक्त कर दिया था.

प्रारंभिक जांच में वित्तीय गड़बड़ियां पाई जाने के बाद कार्रवाई के लिए शासन को रिपोर्ट भेज दी गई. याचिका में कहा गया कि जिला पंचायत में करोड़ों के घोटाले में सड़क निर्माण के लिए पैसा जारी किया गया, लेकिन सड़क बनी ही नहीं. जिन लेबरों को दर्शाया गया, वो मज़दूर ही फर्जी निकले. याचिका में ज़िला पंचायत अध्यक्ष समेत अन्य पर आपराधिक मामला दर्ज करने के साथ पूरे मामले की जांच सीबीआई से करने की मांग की गई है.

याचिका में यह भी बताया गया कि निर्माण कार्य में 2799.72 और सहकारी समिति कार्य योजना में 5 करोड़ 8 लाख 28 हजार 166 रुपये के साथ 8 कामों के भुगतान में 10 लाख 47 हजार 582 की धनराशि दो बार जारी की गई है. इन तमाम फैक्ट्स को पेश करते हुए याचिकाकर्ता ने कोर्ट से भ्रष्टचार के इस मामले में सीबीआई जांच तक की बात कही.

Tags: Uttarakhand high court, Uttarakhand news, Uttarkashi News

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर