Home /News /uttarakhand /

हरीश रावत स्टिंग केस में दोपहर में फिर हाईकोर्ट पहुंची सीबीआई, जज ने केस सुनने से किया इनकार, दूसरी बेंच को किया रेफ़र

हरीश रावत स्टिंग केस में दोपहर में फिर हाईकोर्ट पहुंची सीबीआई, जज ने केस सुनने से किया इनकार, दूसरी बेंच को किया रेफ़र

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के स्टिंग केस की सुनवाई अब दूसरी बेंच करेगी.

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के स्टिंग केस की सुनवाई अब दूसरी बेंच करेगी.

2 बजे सीबीआई फिर हाईकोर्ट पहुंची और हरीश रावत के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज करने की इजाज़त मांगी. इसके बाद हरीश रावत के अधिवक्ताओं को कोर्ट में बुलाया गया. लेकिन सुनवाई शुरु होते ही कोर्ट में माहौल गर्म हो गया.

नैनीताल. उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के स्टिंग केस की सुनवाई अब दूसरी बेंच करेगी. आज बेहद नाटकीय घटनाक्रम में सुबह सुनवाई स्थगित होने के बाद सीबीआई ने दोबारा बेंच को अप्रोच किया और इस मामले को आज ही सुनने का दबाव डाला. इसके बाद हरीश रावत के वकील वापस कोर्ट में पहुंचे और उन्होंने सीबीआई के मांग का विरोध किया. माहौल गर्म होने के बाद जस्टिस रमेश चंद्र खुल्बे की कोर्ट ने इस मामले को सुनने से इनकार कर दिया और इसे दूसरी बेंच को ट्रांस्फ़र कर दिया. अब हाईकोर्ट की दूसरी बेंच इस मामले की सुनवाई करेगी.

गिरफ़्तारी की थी आशंका 

उत्तराखंड की राजनीति गुरुवार से ही आज होने वाली सुनवाई को लेकर गर्म हो गई थी. हरीश रावत ने एक फ़ेसबुक पोस्ट में सुनवाई के लिए नैनीताल जाने का ऐलान कर दिया था. उन्होंने कहा था कि वह ऐसा इसलिए कर रहे हैं ताकि सीबीआई उन्हें भगोड़ा न कह सके और एजेंसी को मालूम रहे कि वह कहां मौजूद हैं.

हरीश रावत के ऐलान के बाद कांग्रेस नेताओं ने भी उनके समर्थन में नैनीताल पहुंचने की घोषणा कर दी. हरीश रावत गुरुवार शाम को ही पहुंच गए थे तो प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह, नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश के साथ कई कांग्रेस नेता आज सुबह नैनीताल पहुंच गए.

दरअसल माना यह जा रहा था कि आज सीबीआई हरीश रावत के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज करने की इजाज़त मांगेगी और उसके बाद आज ही उन्हें गिरफ़्तार किया जा सकता है. इससे पहले 3 सितंबर को हुई सुनवाई में सीबीआई ने साफ़ कर दिया था कि वह जांच पूरी कर चुकी है और इस मामले में जल्द ही एफ़आईआर कर सकती है.

सुबह की सुनवाई 

उधर सुबह सुनाई शुरु होते ही हरीश रावत के वकीलों ने इस मामले पर बहस करने के लिए टाइम मांगा. सीबीआई ने इसका विरोध किया और अदालत से एफ़आईआर दर्ज करने की अनुमति मांगी. कोर्ट ने हरीश रावत के वकीलों के तर्क पर मामले को एक अक्टूबर के लिए स्थगित कर दिया. कोर्ट ने सीबीआई से जांच रिपोर्ट भी उसी दिन कोर्ट में पेश करने को कहा.

12 बजे तक इस मामले की सुनवाई टलने के बाद करीब 2 बजे सीबीआई फिर हाईकोर्ट पहुंची और हरीश रावत के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज करने की इजाज़त मांगी. इसके बाद हरीश रावत के अधिवक्ताओं को कोर्ट में बुलाया गया. लेकिन सुनवाई शुरु होते ही कोर्ट में माहौल गर्म हो गया. इसके बाद जस्टिस रमेश चन्द्र खुल्बे की कोर्ट ने पूरे मामले को सुनने से इनकार कर दिया और दूसरी बेंच के लिये रेफ़र कर दिया.

अब क्या होगा?

जस्टिस खुल्बे के कोर्ट के इस मामले को सुनने से इनकार करने का पहला असर तो यह होगा कि एक अक्टूबर को होने वाली सुनवाई अब नहीं होगी. उनके इस केस को किसी अन्य बेंच को ट्रांस्फ़र करने के मामले पर हाईकोर्ट के चीफ़ जस्टिस फ़ैसला करेंगे. कल शनिवार को भी हाईकोर्ट खुला हुआ है इसलिए चीफ़ जस्टिस इस पर फ़ैसला ले सकते हैं.

चीफ़ जस्टिस के किसी बेंच को यह मामला अलॉट करने के बाद सीबीआई या हरीश रावत के वकील उस बेच को सुनवाई के लिए अप्रोच कर सकते हैं. यह कल भी हो सकता है और बाद में भी. हालांकि सीबीआई की बेचैनी को देखते हुए लगता है कि वह जल्द से जल्द इस मामले में एफ़आईआर करना चाहती है और इसलिए किसी बेंच को केस अलॉट होते ही वह उसे अप्रोच करेगी.

ये भी देखें: 

संकट में साथ तो आए कांग्रेसी दिग्गज... क्या कायम रहेगी यह एकजुटता? (2440747)

हरीश रावत स्टिंग केसः CBI को नहीं मिली FIR की इजाजत, हाईकोर्ट में 1 अक्टूबर तक टाली सुनवाई

Tags: CBI, Harish rawat, High court, Nainital news, Uttarakhand news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर