अपना शहर चुनें

States

COVID-19: लॉकडाउन में आगे आए मददगार तो अमिताभ बच्चन के स्कूल से भी बढ़ी उम्मीद

लॉकडाउन के बीच अमिताभ बच्‍चन सोशल मीडिया पर एक्टिव हैं.
लॉकडाउन के बीच अमिताभ बच्‍चन सोशल मीडिया पर एक्टिव हैं.

उत्तराखंड में लॉकडाउन (Lockdown) के बीच कई सामाजिक संगठन और निजी स्कूल जरूरतमंदों की मदद को आगे आ रहे हैं.

  • Share this:
नैनीताल. उत्तराखंड में लॉकडाउन (Lockdown) के बीच कई सामाजिक संगठन और निजी स्कूल जरूरतमंदों की मदद को आगे आ रहे हैं. नैनीताल में भी कई निजी स्कूल लॉकडाउन की अवधि के बीच इस काम में जुटे हुए हैं. ये स्कूल जरूरतमंद लोगों को राशन और अन्य सामान घर तक पहुंचा रहे हैं. खासकर नैनीताल के आसपास के गांवों के जिन लोगों को खरीदारी करने शहर आना पड़ता है, लॉकडाउन के बीच ये स्कूल और अन्य संगठन उनके लिए मददगार बनकर सामने आए हैं. ऐसे में जबकि नैनीताल के कई छोटे निजी स्कूल लोगों की मदद को आगे आ रहे हैं, नैनीताल के बड़े और नामी-गिरामी स्कूलों से भी लोगों की उम्मीदें बढ़ गई हैं. इन्हीं में से एक है बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) का शेरवुड स्कूल.

दूरदराज के लोगों को होती है परेशानी

नैनीताल के आसपास के गांवों के लोगों के लिए लॉकडाउन की वजह से कई परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. इन लोगों को जरूरी सामान के लिए नैनीताल आना पड़ता है, लेकिन लॉकडाउन की वजह से  आजकल वे नहीं आ पा रहे हैं.  नैनीताल के कई निजी स्कूलों ने गांव के लोगों की मदद का बीड़ा उठाया है. ये लोग गांव-गांव तक पहुंचकर जरूरतमंद लोगों के घर तक राहत सामग्री व खाने-पीने का सामान पहुंचा रहे हैं. सेंट जोसफ स्कूल के प्रधानाचार्य ब्रदर हैक्टर पिंटो ने कहा कि शहर में कई सामाजिक संगठन काम कर रहे हैं, लेकिन गांव तक लोगों को मदद नहीं मिल पा रही है. ब्रदर पिंटो ने कहा कि उनका लक्ष्य है कि गांव के लोगों को वो जाकर खुद राशन देंगे, ताकि लॉकडाउन के कारण उन्हें तकलीफ न हो.



बड़े स्कूलों से भी जगी उम्मीद
कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए लागू लॉकडाउन के बीच नैनीताल के छोटे निजी स्कूलों के आगे आने के बाद स्थानीय लोगों की नजरें अब शहर के बड़े और नामी-गिरामी स्कूलों पर टिकी हैं. लोगों का कहना है कि जिस तरह छोटे स्कूल जरूरतमंदों की मदद को आगे आए हैं, उसी तरह बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन के स्कूल, शेरवुड स्कूल, सेंट मैरी, ऑल सेंट  जैसे स्कूलों को भी इस काम के लिए आगे आना चाहिए. इस मुश्किल घड़ी में अपनी सामाजिक जिम्मेदारी निभाते हुए इन स्कूलों को भी लोगों की मदद करनी चाहिए.

तल्लीताल पुलिस भी करती है मदद

COVID-19 की वजह से पैदा हुई इस स्थिति में न सिर्फ सामाजिक संगठन और निजी स्कूल जरूरतमंदों की मदद को आगे आए हैं, बल्कि स्थानीय पुलिस भी इस काम में उनकी मदद कर रही है. कोरोना वॉरियर एसआई दीपक बिष्ट बताते हैं कि उन्होंने उन इलाकों का चुनाव किया है, जहां से आसानी से बाजार नहीं आया जा सकता. इन इलाकों के लोग तय समय पर शहर नहीं आ पाते हैं, जिससे उन्हें परेशानी होती है. पुलिस इन लोगों की मदद करती है. दीपक बिष्ट ने कहा कि इसके लिए एक टीम लगातार गांवों में जाकर विकलांग, गरीब और जरूरतमंदों की लिस्ट तैयार करती है, जिन घरों में कोई कमाने वाला नहीं है. उन लोगों की हरसंभव सहायता की जा रही है.

ये भी पढ़ेंः 

बैंकों-कोषागार में 3 दिन की छुट्टी, डेढ़ लाख कर्मियों को देर से मिलेगा वेतन

113 पुलिसकर्मी ने उठाया 124 परिवारों का जिम्मा, हर तरह की कर रहे हैं मदद
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज