होम /न्यूज /उत्तराखंड /नैनीताल में दुर्गा पूजा महोत्सव की धूम, जानिए सरोवर नगरी में इसका इतिहास

नैनीताल में दुर्गा पूजा महोत्सव की धूम, जानिए सरोवर नगरी में इसका इतिहास

नैनीताल में इस साल दुर्गा पूजा का भव्य आयोजन हो रहा है. इस महोत्सव की शुरुआत साल 1956 में हुई थी. वहीं, शुरुआत में बरे ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- हिमांशु जोशी

नैनीताल. उत्तराखंड के नैनीताल में इस साल दुर्गा पूजा का भव्य आयोजन हो रहा है. सरोवर नगरी में सर्ब जनिन दुर्गा पूजा कमेटी के तत्वाधान में 66वें दुर्गा महोत्सव का आयोजन (1 अक्टूबर से 5 अक्टूबर तक) किया जा रहा है. कोरोना काल के दो साल के बाद इस वर्ष इस महोत्सव को भव्य रूप दिया गया है. नैनीताल में इस महोत्सव की शुरुआत साल 1956 में हुई थी. गौर करने वाली बात यह है कि यह केवल बंगाली दुर्गा पूजा महोत्सव नहीं बल्कि नैनीताल दुर्गा महोत्सव बन गया है, जिसमें न केवल बंगाली समेत सभी समुदाय के लोग बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते हैं और मां की आराधना करते हैं.

साल 1956 में बंगाल के टेलीफोन एक्सचेंज में बतौर अधिकारी पद पर तैनात देवनाथ ने नैनीताल में इस महोत्सव की शुरुआत की थी. इसके बाद बंगाली समुदाय के लोगों ने हर वर्ष इस महोत्सव को धूमधाम से मनाया. नैनीताल दुर्गा पूजा कमेटी के अध्यक्ष चंदन कुमार दास ने बताया कि वह पिछले 35 वर्षों से इस महोत्सव का हिस्सा बन रहे हैं. साल 1956 से 1958 तक मल्लीताल स्थित चीना बाबा मंदिर के नजदीक शांति कुंज धर्मशाला दुर्गा पूजा की शुरुआत घट स्थापना के साथ हुई. साल 1959 में पहली बार दुर्गा माता की मूर्ति का निर्माण किया गया. शुरुआत में बरेली और लखनऊ से माता की मूर्तियां लाई जाती थीं. साल 1963 से नैनीताल में ही मूर्तियों को बनाना शुरू किया गया.

स्थानीय निवासी शिवशंकर बताते हैं कि मूर्तियों के निर्माण के लिए बंगाल से कलाकार बुलाए जाते हैं. 24 परगना विराटी के कलाकारों द्वारा इस बार मूर्तियों का निर्माण किया गया है. इसमें गंगा नदी के पास की मिट्टी लाई जाती है. इसमें इको फ्रेंडली रंगों का इस्तेमाल किया जाता है, जिससे पर्यावरण को भी नुकसान न पहुंचे.

स्थानीय निवासी त्रिभुवन फर्त्याल ने बताया कि दुर्गा महोत्सव न केवल बंगाल समुदाय बल्कि नैनीताल के हर एक समुदाय के व्यक्ति के लिए विशेष है. हर कोई इस महोत्सव को भव्य बनाने में सहयोग करता है. हर साल नवरात्रि के छठे दिन नयना देवी मंदिर में मां दुर्गा की मूर्ति स्थापित होती है और पांच दिनों तक महोत्सव का आयोजन हर्षोल्लास के साथ होता है.

Tags: Nainital news, Navratri

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें