हल्द्वानीः चारा काटने खेत में गई थी महिला पर हाथियों ने किया हमला, पटक-पटककर ले ली जान
Nainital News in Hindi

हल्द्वानीः चारा काटने खेत में गई थी महिला पर हाथियों ने किया हमला, पटक-पटककर ले ली जान
ग्रामीण परिवेश में रहने के कारण परिवार ने कुछ मवेशी पाल रखे थे जिनके लिए महिलाएं रोजाना चारा लेने जंगल जाती हैं.

हल्द्वानी (Haldwani) के गौलापार इलाके में हाथियों के हमले से फैली दहशत. पिछले महीने जंगली हाथियों ने वन विभाग की टीम पर हमला (Elephant Attack) कर दिया था, जिसमें एक की मौत हो गई थी.

  • Share this:
हल्द्वानी. इंसान और वन्यजीव संघर्ष में सोमवार को एक और जान चली गई. हल्द्वानी (Haldwani) के करीब गौलापार में  वन विभाग के एक बीट वॉचर की पत्नी को हाथी (Elephant Attack) ने पटक-पटककर मार डाला. गौलापार की सीतापुर गांव में 58 साल की पार्वती देवी सोमवार तड़के चारा काटने खेत में गई थीं. जंगल से सटे खेत होने के कारण यहां अक्सर हाथियों की आवाजाही रहती है. चारा काटने के दौरान पार्वती देवी का ध्यान हाथी की तरफ नहीं गया और हाथी ने उन पर हमला बोल दिया. पार्वती की चीख सुनने के बाद तुरंत ही उनके घर वाले और ग्रामीण मौके पर पहुंचे, लेकिन तब तक वह दम तोड़ चुकी थीं.

रिपोर्ट तलब

बीते एक महीने के दौरान यह तीसरा मामला है, जब जंगली जानवरों के हमले में किसी इंसान की जान चली गई है. तराई वन प्रभाग के मुख्य वन संरक्षक पराग मधुकर थकाते ने डिवीजन के वन अधिकारियों से इस मामले पर रिपोर्ट तलब की है. सीतापुर गांव के ग्राम प्रधान बलवंत राम आर्य ने बताया कि मृतक महिला वन विभाग के बीट वॉचर की पत्नी थी. ग्रामीण परिवेश में रहने के कारण परिवार ने कुछ मवेशी पाल रखे थे. जिनके लिए महिलाएं रोजाना चारा लेने जंगल जाती हैं.



हाथी-बाघ के हमले
चोरगलिया में नंधौर से सटे जंगल में 20 दिन पहले हाथियों ने गश्त कर रही वन विभाग की टीम पर हमला बोल दिया था, जिसमें एक बीट वॉचर की मौके पर ही मौत हो गई. अन्य लोगों ने किसी तरह भाग कर अपनी जान बचाई थी. 23 जून को काठगोदाम इलाके गुलदार एक महिला को अपना निवाला बना चुका है. इसके पहले 25 मई को कालाढूंगी के चूना खान इलाके में बाघ ने एक किशोरी को मार डाला था.

 

हाथियों की धमक

हल्द्वानी में गौलापार से लेकर, बरेली रोड और रामपुर रोड तक हाथियों की चहलकदमी रहती है. आए दिन हल्डूचौर, मोटाहल्डू गौलापार के इलाके में हाथियों का झुंड का झुंड खेतों में घुस आता है और फसलों को नुकसान पहुंचाता है. लेकिन इसके बावजूद वन विभाग इंसानों की कोई मदद नहीं कर पा रहा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading