Assembly Banner 2021

Uttarakhand News: सल्ट उपचुनाव में हरीश रावत की प्रतिष्ठा दांव पर, भाजपा ने लगाया वादाखिलाफी का आरोप

पूर्व सीएम हरीश रावत सल्ट से लगे मोहनारी के रहने वाले हैं.  (फाइल फोटो)

पूर्व सीएम हरीश रावत सल्ट से लगे मोहनारी के रहने वाले हैं. (फाइल फोटो)

उत्तराखंड की सल्ट विधानसभा सीट का उपचुनाव (Salt Assembly By-election) कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व सीएम हरीश रावत (Former CM Harish Rawat) की प्रतिष्ठा का सवाल बन गया है.

  • Share this:
रामनगर. उत्तराखंड की सल्ट विधानसभा सीट के लिए होने वाले उपचुनाव (Salt Assembly By-election) के रण में भले ही बीजेपी और कांग्रेस के बीच लड़ाई चल रहा हो, लेकिन इस उपचुनाव में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व सीएम हरीश रावत (Former CM Harish Rawat) की प्रतिष्ठा भी दांव पर लगी है. पूर्व सीएम सल्ट से लगे मोहनारी के रहने वाले हैं. इसके साथ ही वह अल्मोड़ा-पिथौरागढ़ सीट से से 3 बार सांसद रहे हैं. कांग्रेस में सल्ट के इस उपचुनाव के लिए पूर्व विधायक रणजीत रावत अपने ब्लॉक प्रमुख बेटे विक्रम रावत को प्रत्याशी बनाना चाहते थे, तो वहीं पूर्व सीएम हरीश रावत का हाथ गंगा पंचौली के सिर पर था, जिसके चलते पार्टी ने पंचौली को अपना उम्मीदवार बनाया. ऐसे में अब इस चुनाव से हरीश रावत की प्रतिष्ठा सीधे जुड़ गई है.

हालांकि कांग्रेस इसे पार्टी की प्रतिष्ठा से जोड़ कर देख रही है. पीसीसी चीफ प्रीतम सिंह कहते हैं कि चुनाव कांग्रेस लड़ रही है. ऐसे में हरीश रावत की नही बल्कि कांग्रेस संगठन की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है. वहीं बीजेपी की यदि मानें तो हरीश रावत ने पहले खुद ऐलान किया था कि दिवंगत नेता सुरेंद्र सिंह जीना की मौत से उन्हें आघात पहुंचा है और कांग्रेस को इस सीट पर वॉक ओवर दे देना चाहिए. ऐसे में चुनाव के लिए अपने पसंद के प्रत्याशी को उतार कर वह जनता को क्या संदेश देना चाहते हैं.

भाजपा सांसद ने कही यह बात
नैनीताल से सांसद अजय भट्ट कहते हैं कि चुनाव नहीं लड़ने की बात भी उन्होंने ही की थी. अब वह अपने प्रत्याशी को चुनाव लड़वा कर वादा खिलाफी कर रहे हैं. कभी एक दूसरे के पूरक रहे हरीश रावत और रणजीत रावत की अनबन अब किसी से छिपी नहीं है. ऐसे में रणजीत रावत की पकड़ वाले इलाके में हरीश रावत का इमोशनल ऑडियो कार्ड कितना काम करेगा यह देखना होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज