बर्ड वाचिंग फेस्टिवल: प्रतिभागियों ने कहा नैनीताल में बर्ड टूरिज्म की अपार संभावनाएं
Nainital News in Hindi

बर्ड वाचिंग फेस्टिवल: प्रतिभागियों ने कहा नैनीताल में बर्ड टूरिज्म की अपार संभावनाएं
नैनीताल बर्ड फेस्टिवल के दौरान देश भर के पक्षी प्रेमी नैनीताल पहुंचे

फोटोग्रामफर जेनी मारिया ने कहा कि वर्षों से नैनीताल बर्ड वाचिंग के लिए बेहतरीन स्थान रहा है. बर्ड वाचिंग से संबंधित फोटोग्राफी के लिए नैनीताल देश के कुछ उत्तम स्थानों में से एक है. इसीलिए यहां बहुत सारे लोग बर्ड वाचिंग और अच्छी तस्वीर पाने की इच्छा से आते हैं.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नैनीताल में चल रहे राष्ट्रीय बर्ड वाचिंग फेस्टिवल का रविवार को समापन हो गया. तीन दिन तक चले इस बर्ड वाचिंग फेस्टिवल समापन के अवसर पर अपर प्रमुख वन संरक्षक वन्य जीव धनंजय मोहन ने सभी प्रतिभागियों को पुरस्कार वितरण किया. नारायण नगर में आयोजित इस समापन समारोह के दौरान देश भर से आए प्रतिभागियों ने कहा कि नैनीताल में बर्ड वॉचिंग की अपार संभावनाएं हैं. यहां अनेक किस्म की चिड़िया देखने को मिलती है. यहां बर्ड टूरिज्म के लिये अपार संभावनाएं हैं.

मालूम हो कि तीन दिनों तक चले इस नैनीताल बर्ड फेस्टिवल के दौरान देश भर के पक्षी प्रेमी नैनीताल पहुंचे थे. साथ ही इस दौरान बच्चों को प्रकृति से जोड़ने के लिए पोस्टर और क्वीज प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया था. इस बर्ड वाचिंग फेस्टिवल को मिली सफलता के बाद वन विभाग एक और बर्ड फेस्टिलव अक्टूबर-नवंबर में आयोजित करने पर विचार करने लगा है.

यहां आई फोटोग्रामफर जेनी मारिया ने कहा कि वर्षों से नैनीताल बर्ड वाचिंग के लिए बेहतरीन स्थान रहा है. बर्ड वाचिंग से संबंधित फोटोग्राफी के लिए नैनीताल देश के कुछ उत्तम स्थानों में से एक है. इसीलिए यहां बहुत सारे लोग बर्ड वाचिंग और अच्छी तस्वीर पाने की इच्छा से आते हैं. वहीं नैनीताल के डीएफओ धर्म सिंह ने कहा कि इस राष्ट्रीय स्तर के बर्ड वाचिंग फेस्टिवल के बाद इसी वर्ष अक्टूबर-नवंबर में एक बार फिर बर्ड वाचिंग फेस्टिवल का आयोजन किया जाएगा. इसमें विदेशी बर्ड वाचर्स और फोटोग्राफर्स को भी बुलाया जाएगा. यानी आगामी बर्ड वाचिंग फेस्टिवल अंतर्राष्ट्रीय स्तर का होगा. ऐसा इसलिए ताकि नैनीताल के बर्ड वाचिंग टूरिज्म को अंतर्राष्ट्रीय बनाया जा सके.



उत्तराखंड के अपर प्रमुख वन संरक्षक वन्यजीव धनंजय मोहन ने कहा कि अभी-अभी समाप्त हुआ बर्ड वाचिंग फेस्टिवल एक मील का पत्थर साबित हुआ है. मैं कहूंगा कि यह स्थानीय स्तर का बर्ड फेस्टिवल था. हालांकि इसमें देशभर से प्रतिभागी आए. राज्य स्तरीय फेस्टिवल होना ही चाहिए. लेकिन अब समय आ गया है कि स्थानीय स्तर पर भी फेस्टिवल होते रहें क्योंकि हमें स्थानीय जगहों को प्रमोट करना है. स्थानी स्तर पर जो वन प्रभाग हैं वो लीडरशिप लेकर स्पॉन्सर को जोड़ते हुए इस तरह के आयोजन पूरे प्रदेश में करें.
First published: April 30, 2018, 11:29 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading