Weather Update: नैनीताल में इंद्रदेव हुए मेहरबान, मौसम के करवट बदलने से झमाझम बारिश

बीमारियों का भी खतरा बारिश नहीं होने पर भी बना हुआ था.

बीमारियों का भी खतरा बारिश नहीं होने पर भी बना हुआ था.

Uttarakhand Weather: कई महीनों बाद हुई बारिश से स्थानीय लोगों ने राहत महसूस की. साथ ही बारिश की वजह से गर्मी से भी लोगों को निजात मिली है.

  • Share this:
नैनीताल. उत्‍तराखंड के नैनीताल (Nainital) में मौसम ने अचानक से करवट बदला है. मौसम में बदलाव आने के बाद शहर में झमाझम बारिश (Rain) शुरू हो गई. इस दौरान न सिर्फ जमकर बारिश हुई, बल्कि आसमान से जमकर ओले भी गिरे. हालांकि, कई महीनों बाद हुई बारिश से स्थानीय लोगों ने राहत महसूस की. साथ ही बारिश की वजह से गर्मी से भी लोगों को निजात मिली है. वहीं, जंगलों की आग के लिए ये बारिश बरदान साबित हुई है.

दरअसल, इस साल बारिश नहीं होने से मौसम पर असर पड़ा है तो जनवरी महीने से ही कुमाऊं के पिथौरागढ़, अल्मोड़ा, चंपावत और नैनीताल में जंगलों में आग लग रही है. आग से हजारों एकड़ जंगलजलकर राख हो गए हैं. वनों की जानकारी रखने वाले के एस सजवाण बताते हैं कि पिछले महीनों के बारिश नहीं होने से जंगल ड्राई हो गए थे. इसके चलते आग की घटनाओं में तेजी आई थी. अब बारिश हुई है तो अब इससे नमी मिलेगी और जंगल आग से बचेंगे. हालांकि, अब बारिश होने से जंगलों की आग से राहत मिली है, जिससे वन विभाग ने राहत की सांस ली है.

Youtube Video


नई बुआई के लिए बारिश से नमी मिलेगी
कई महीनों से सपना बनी बारिश के बाद नैनीझील को भी कुछ राहत मिली है. हालांकि, इस बारिश के बाद पहाड़ में सूखने के कगार पर पहुंची खेती को भी जान मिली है. नैनीताल के पास खुर्पाताल के ग्रामीण मनमोहन कनवाल कहते हैं कि कई महीनों से बारिश नहीं हुई थी जिसके चले खेती सूख गई थी. खेती को काफी नुकसान हुआ है. हालांकि, नई बुआई के लिए बारिश से नमी मिलेगी.

नैनीताल में भी बढ़ने लगी थी गर्मी

दरअसल, लंबे समय से बारिश नहीं होने से नैनीताल में गर्मी तेजी से बढ़ने लगी थी. लेकिन तेज बारिश और ओला गिरने से शहर में ठंडक लौट आयी है. नैनीताल में कारोबारी संजय नागपाल कहते हैं कि नैनीताल के लिए बारिश जरूरी थी. सिर्फ झील के लिए नहीं बल्कि तापमान में कमी भी बारिश से मिला है. वहीं, कई बीमारियों का भी खतरा बारिश नहीं होने पर भी बना हुआ था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज