खीम सिंह से पूछताछ को लखनऊ पहुंची उत्तराखंड पुलिस... यहां माओवादी होने पर ही उठे सवाल

बरेली से माओवादी खीम सिंह की गिरफ्तारी के बाद कुमाऊं में पुलिस अलर्ट पर है.

News18 Uttarakhand
Updated: July 19, 2019, 5:03 PM IST
खीम सिंह से पूछताछ को लखनऊ पहुंची उत्तराखंड पुलिस... यहां माओवादी होने पर ही उठे सवाल
50 हज़ार के इनामी माओवा दी खीम सिंह को बरेली से पकड़े जाने के बाद कुमाऊं पुलिस भी सक्रिय हो गई है. खीम सिंह की नैनीताल में सक्रियता को भी पुलिस खंगाल रही है.
News18 Uttarakhand
Updated: July 19, 2019, 5:03 PM IST
50 हज़ार के इनामी माओ‌वादी खीम सिंह को बरेली से पकड़े जाने के बाद कुमाऊं पुलिस भी सक्रिय हो गई है. खीम सिंह की नैनीताल में सक्रियता को भी पुलिस खंगाल रही है. उत्तराखंड पुलिस की एक टीम खीम सिंह से पूछताछ करने के लिए लखनऊ पहुंच भी गई है. इस बीच वरिष्ठ पत्रकार राजीव लोचन शाह ने खीम सिंह के माओवादी होने पर ही सवाल उठा दिए हैं और कहा है कि वह लिखने-पढ़ने वाले ऊर्जावान नौजवान हुआ करते थे.

'रिमांड की कोशिश करेगी पुलिस'

बरेली से माओवादी खीम सिंह की गिरफ्तारी के बाद कुमाऊं में पुलिस अलर्ट पर है. खीम सिंह (बिष्ट) अल्मोड़ा के हैं. कुमाऊं के डीआईजी जगत राम जोशी ने बताया कि खीम सिंह से पूछताछ के लिए उत्तराखंड पुलिस की एक टीम लखनऊ रवाना कर दी है. उन्होंने कहा कि उत्तराखंड पुलिस की टीम खीम सिंह से पूछताछ करेगी और कोशिश होगी कि उत्तराखंड में दर्ज मामलों के बेस पर उसकी रिमांड ली जा सके.




rajiv lochan Shah, नैनीताल समाचार के संस्थापक, संपादक राजीव लोचन शाह
नैनीताल समाचार के संस्थापक, संपादक राजीव लोचन शाह


इसके विपरीत नैनीताल समाचार के संस्थापक वरिष्ठ पत्रकार और राज्य आन्दोलनकारी राजीव लोचन शाह ने पुलिस पर सवाल खड़े करते हुए पूछा कि खीम सिंह को माओ‌वादी क्यों माना गया, यह उन्हें समझ नहीं आता. उन्होंने कहा कि पुलिस सिर्फ केन्द्र से मिलने वाले पैसे के लिए आन्दोलनों से जुड़े लोगों को माओवादी घोषित कर देती है.

'माओवाद पर मत स्पष्ट नहीं'

शाह ने कहा कि उन्होंने आरटीआई में माओवाद के साहित्य और माओवादी संगठनों की लिस्ट मांगी थी लेकिन उनको कोई संतुष्ट जवाब नहीं दिया गया. उन्होंने कहा कि उत्तराखंड पुलिस के एक डीजीपी ने तो एक बार उनको भी माओवादी करार दे दिया था.
Loading...

VIDEO: माओवादियों ने उत्तराखंड में लगाए पोस्टर, लिखा- हम नेपाल के नहीं

उन्होंने बताया कि उत्तराखंड आंदोलन के दौरान खीम सिंह सक्रिय थे और वह और उनके जैसे अन्य सक्रिय लोग नैनीताल समाचार में लेख भी लिखा करते थे. शाह कहते हैं कि वह तो खीम सिंह को लिखने-पढ़ने वाले ऊर्जावान युवक के रूप में ही जानते थे, जो समाज के लिए कुछ करना चाहता था.

(नैनीताल से वीरेंद्र बिष्ट के साथ हल्द्वानी से शैलेंद्र नेगी की रिपोर्ट)

VIDEO: माओवादियों की धरपकड़ में जुटी उत्तराखंड पुलिस

माओवादी पोस्टर लगाने वालों का पता नहीं लगा पा रही अल्मोड़ा पुलिस

Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें.  
First published: July 19, 2019, 4:44 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...