मुन्नी देवी के दो पदों पर काबिज़ होने का मामला, 18 को आ सकता है फ़ैसला

मुन्नी देवी के विधायक बनने के बाद ज़िला पंचायत अध्यक्ष की सीट खाली हो गई और लखपत सिंह बुटोला ने अध्यक्ष पद का कार्यभार ग्रहण कर लिया था.

News18 Uttarakhand
Updated: September 11, 2018, 5:05 PM IST
मुन्नी देवी के दो पदों पर काबिज़ होने का मामला, 18 को आ सकता है फ़ैसला
लखपत सिंह बुटोला (दाएं) ने थराली से बीजेपी विधायक मुन्नी देवी (बाएं) के दो पदों पर काबिज़ होने को चुनौती दी है.
News18 Uttarakhand
Updated: September 11, 2018, 5:05 PM IST
थराली से बीजेपी विधायक मुन्नी देवी के दो पदों पर काबिज़ होने को चुनौती देने वाले मामले पर 18 सितंबर को अन्तिम सुनवाई होगी. हाईकोर्ट की एकलपीठ उसी दिन फ़ैसला भी सुना सकती है. आज सभी विपक्षीगणों की ओर से कोर्ट में अपना जवाब दाखिल किया है. मुन्नी देवी ने अदालत में स्वीकार किया कि वह दो पदों पर काबिज़ हैं. कोर्ट ने इस मामले पर अगली तारीख 18 सितंबर लगाई है.

बता दें कि बीजेपी विधायक मगनलाल शाह की मौत के बाद खाली हुई थराली सीट पर पार्टी ने उनकी पत्नी मुन्नी देवी को मैदान में उतारा था. मुन्नी देवी ज़िला पंचायत चमोली की अध्यक्ष थीं. मुन्नी देवी के विधायक बनने के बाद ज़िला पंचायत अध्यक्ष की सीट खाली हो गई और लखपत सिंह बुटोला ने अध्यक्ष पद का कार्यभार ग्रहण कर लिया था.

लेकिन मुन्नी देवी ने पद छोड़ने से मना कर दिया और विधायक व जिला पंचायत की कुर्सी पर काबिज रहीं. उनके दो पदों पर काबिज रहने को लखपत सिंह बुटोला ने हाईकोर्ट में चुनौती दी थी. याचिका में   कहा गया था कि दो संवैधानिक पदों पर एक साथ नहीं रहा जा सकता है या तो मुन्नी देवी जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर रहें या फिर विधायक के पद पर.

पिछली सुनवाई के दौरान हाई कोर्ट की खण्डपीठ ने ज़िला पंचायत चमोली, मुन्नीदेवी और सरकार को जवाब दाखिल करने को कहा था जो सभी पार्टियों ने कोर्ट में अपना जवाब दाखिल कर दिया है. अब 18 सितंबर को कोर्ट पूरे मामले पर सुनवाई कर अपना फैसला सुना सकता है.

VIDEO: शपथ लेते ही मुन्नी देवी ने कहा, 'मेरे खिलाफ हो रहा है षड्यंत्र'

थराली की जंग: करोड़पति हैं जीतराम तो लखपति हैं मुन्नी देवी शाह
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर