Assembly Banner 2021

नैनीताल: 7 लोगों ने डाली 6000 की डकैती, 857 रुपये की हिस्सेदारी में हाईकोर्ट से लेनी पड़ी जमानत

हाईकोर्ट में जमानत के लिए पहुंचे एक आरोपी घनश्याम ने कोर्ट में बताया कि अर्चित सिंघानियां से उनके साथी राजेन्द्र का कारोबारी लेनदेन था.

हाईकोर्ट में जमानत के लिए पहुंचे एक आरोपी घनश्याम ने कोर्ट में बताया कि अर्चित सिंघानियां से उनके साथी राजेन्द्र का कारोबारी लेनदेन था.

दुकान से गुटखा खरीदने को लेकर हुए विवाद में हल्द्वानी के कारोबारी ने 7 लोगों के खिलाफ 6000 रुपये और आधार कार्ड लूटने की शिकायत की थी. निचली अदालत से जमानत न मिलने के बाद हाईकोर्ट में पहुंचा मामला.

  • Share this:
नैनीताल. नैनीताल जिले की एक कथित डकैती इन दिनों चर्चा में है. इस डकैती में 7 लोगों पर आरोप है कि उन्होंने दिनदहाड़े आधार कार्ड और 6000 रुपए की लूट की है. 2019 में जेल में बंद रहने के बाद अब इन लोगों को हाईकोर्ट से जमानत मिली है. दरअसल, 14 नवम्बर 2019 को हल्द्वानी के कारोबारी अर्चित सिंघानिया ने हल्द्वानी कोतवाली में शिकायती पत्र देकर FIR दर्ज करवाई थी.

FIR में अर्चित ने कहा था कि कुछ लोग मेरी दुकान में आए और रजनीगंधा देने की मांग करने लगे. दुकानदार ने कहा कि ये थोक दुकान है यहां गुटका नहीं मिलता, जिसके बाद कुछ लोगों ने जबरन आधार कार्ड और 6000 रुपए लूट लिए. इस शिकायती पत्र पर कोतवाली पुलिस ने डकैती समेत विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया. इसके अगले ही दिन पुलिस ने सभी 7 आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया और उनसे 5000 रुपये की बरामदगी दिखाई.

हाईकोर्ट से लेनी पड़ी जमानत
2019 से जेल में बंद इन डकैतों को जमानत के लिए हाईकोर्ट आना पड़ा. साल 2020 में निचली अदालत ने सभी की जमानत याचिका खारिज कर दी. इसके बाद ब्रजेश कुमार, घनश्याम, राम अवतार और कल्लू ने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया. हाईकोर्ट ने अपने आदेश में माना कि इन डकैतों से कोई रिकवरी नहीं हुई. सिर्फ वाहन में बैठे होने से इनको अपराधी नहीं माना जा सकता. ऐसे में कोर्ट ने 4 आरोपियों को जमानत पर रिहा कर दिया.
Youtube Video




लेन-देन का भी मामला
हाईकोर्ट में जमानत के लिए पहुंचे एक आरोपी घनश्याम ने कोर्ट में बताया कि अर्चित सिंघानिया से उनके साथी राजेन्द्र का कारोबारी लेन-देन था. लेकिन जब वो अपना पैसा लेने उसके पास गया तो अर्चित सिंघानिया ने झूठा मुकदमा दर्ज करवा दिया. साथ ही उनकी गाड़ी का नम्बर पुलिस को दे दिया जिस पर अगले दिन पुलिस ने सभी लोगों को गिरफ्तार कर लिया. हाईकोर्ट में इस केस की सुनवाई करने वाले आरोपियों के वकील दुष्यंत मैनाली कहते हैं कि जो मुकदमा दर्ज कराया है, वो फिल्मी कहानी सरीखा प्रतीत होता है. इतने बड़े प्रतिष्ठान से दिनदहाड़े गाड़ी में जाकर जगह-जगह सीसीटीवी की मौजूदगी के बावजूद मात्र 6000 की लूट का आरोप हास्यास्पद है. जबकि आरोपियों में से एक का कारोबारी से लेनदेन का पुराना मामला है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज