Home /News /uttarakhand /

nainital beautification to promote kumauni culture localuk upat

Nainital: सरोवर नगरी का कायाकल्प, अब हर तरफ दिख रही 'कुमाऊंनी संस्कृति' की झलक

Nainital Tourist Destinations: नैनीताल के मल्लीताल बाजार में दुकानों के शटर पर पहाड़ी कल्चर से जुड़ी पेंटिंग्स बनाई गई हैं. यह रात की रोशनी में मन को काफी ज्यादा लुभा रही हैं. इसी तरह नैनीताल के रिक्शा स्टैंड को भी पहाड़ी शैली में तैयार किया गया है.

अधिक पढ़ें ...

(रिपोर्ट- हिमांशु जोशी)

नैनीताल. उत्तराखंड राज्य के नैनीताल जिले (Nainital News) को प्रशासन यहां की संस्कृति से पूरी तरह से जोड़ने की कोशिशों में जुटा हुआ है.  दरअसल नैनीताल शहर की बाजारों को कुमाऊंनी शैली में विकसित किया गया है. यह उत्तराखंड की संस्कृति, परंपराओं के बारे में यहां आ रहे पर्यटकों को अवगत भी कराएंगे और साथ ही उन्हें पहाड़ में होने का अहसास भी दिलाएंगे.

मल्लीताल बाजार में दुकानों के शटर पर पहाड़ी कल्चर से जुड़ी पेंटिंग्स बनाई गई हैं. रात की रोशनी में यह मन को काफी ज्यादा लुभा रही हैं. इसी तरह नैनीताल के रिक्शा स्टैंड को भी पहाड़ी शैली में तैयार किया गया है. ज्यादातर जगहों पर अल्मोड़ा के पत्थरों का इस्तेमाल किया गया है.

सुंदरता को निखार रहे अल्मोड़ा के पत्थर
नैनीताल के मल्लीताल में एम्फीथिएटर को भी अल्मोड़ा के पत्थरों से विकसित किया गया है, जो यहां की सुंदरता को और भी ज्यादा निखार रहे हैं. कुमाऊंनी शैली और पारंपरिक पहाड़ी संस्कृति में ढल रही इस नगरी में आने वाले पर्यटक भी इनकी तारीफ करने से नहीं थक रहे हैं.

पर्यटकों भी हैं खुश
नैनीताल घूमने आए सनी कहते हैं कि नैनीताल पूरी तरह से कुमाऊंनी संस्कृति का मिलाजुला रूप है. यहां की हर चीज बेहद खास है. वहीं, सरबजीत ने कहा कि मार्केट में पहाड़ी कल्चर से जुड़ी काफी चीजें देखने को मिल रही हैं. उन्हें ये सब देखकर काफी अच्छा लगा. जसप्रीत कहती हैं कि जिस तरह से यहां सौंदर्यीकरण किया जा रहा है, उससे महसूस हो रहा है कि पहाड़ी संस्कृति को बचाने के नजरिए से यह सब किया जा रहा है, जोकि बहुत अच्छी बात है. उनका परिवार यहां आकर काफी खुश है.

Tags: Nainital news, Uttarakhand news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर