कुमाऊं के सबसे बड़े अस्पताल में Corona मरीजों की मौत का मामला गरमाया, DM ने दिए जांच के आदेश

हल्द्वानी के सुशीला तिवारी अस्पताल (एसटीएच) में कोरोना मरीजों की मौत का मामला गरमा गया है.

डीएम ने सीएमओ को सुशीला तिवारी चिकित्सालय (STH) में COVID-19 से 8 मरीजों की मृत्यु के डेथ ऑडिट को रिव्यू करने को कहा है. साथ ही अस्पताल में ICU बनने के बाद भी मरीजों को भर्ती न करने और ऐसे कई अन्य मामलों की जांच होगी.

  • Share this:
हल्द्वानी. सुशीला तिवारी अस्पताल (STH) में कोरोना वायरस (COVID-19) संक्रमित मरीजों की मौत का मामला गरमा गया है. नैनीताल के डीएम सविन बंसल ने एसटीएच में कोरोना संक्रमण से मरीजों की मौत को गम्भीरता से लेते मुख्य चिकित्साधिकारी (CMO) से रिपोर्ट तलब की है. डीएम ने CMO डॉ. भागीरथी जोशी को अस्पताल में कोरोना संक्रमण से हुए 8 मरीजों की मृत्यु के डेथ ऑडिट को रिव्यू करने को कहा है. सीएमओ को एक सप्ताह के भीतर अपनी जांच रिपोर्ट डीएम के समक्ष पेश करनी होगी.

गंभीर मरीजों को नहीं दिया आईसीयू

सुशीला तिवारी अस्पताल कुमाऊं मंडल के छह जिलों का सबसे बड़ा अस्पताल है. इसे COVID-19 हॉस्पिटल में तब्दील किया गया है. अस्पताल में कोरोना के गंभीर मरीजों के लिए 30 बेड का अलग से आईसीयू बनाया गया है. लेकिन मार्च में तैयार हो चुके आईसीयू में अप्रैल, मई, जून और जुलाई में एक भी मरीज को भर्ती नहीं किया गया, जिससे अस्पताल प्रशासन पर लगातार सवाल उठ रहे हैं.

बताया जा रहा है कि अस्पताल का एनेस्थीसिया डिपार्टमेंट दूसरे विभाग के डॉक्टरों या विभागों का सहयोग नहीं करता. एनेस्थीसिया डिपार्टमेंट के सहयोग न मिलने से चार महीने तक अस्पताल का आईसीयू बंद रहा. इस दौरान कई कोरोना मरीजों की मौत हो गई. जाहिर है जिनकी मौत हुई है, वे गंभीर रहे होंगे. ऐसे में बिना आईसीयू उनका इलाज कैसे हुआ? डीएम ने इसी की जांच के आदेश दिए हैं.

नोडल अधिकारी उठा चुके हैं सवाल

सुशीला तिवारी अस्पताल की मॉनीटरिंग के लिए नोडल ऑफिसर बनाए गए आईएएस अधिकारी और कुमाऊं मंडल विकास निगम के जीएम रोहित मीणा ने अस्पताल की कार्यप्रणाली तथा गड़बड़ी के संबंध में अपनी एक गुप्त रिपोर्ट डीएम को सौंपी है. इसमें बताया गया है कि अस्पताल में खामियों के लिए कौन लोग जिम्मेदार हैं.

नोडल अधिकारी मीणा की रिपोर्ट में साफ है कि एसटीएच में टियर-3 आईसीयू (हाई इन्टेसिव आईसीयू) में कोरोना मरीजों को भर्ती नहीं किया जा रहा है. अस्पताल ने इसकी वजह किसी भी कोरोना मरीज को हाई इन्टेसिव आईसीयू की आवश्यकता न होना बताया है. लेकिन गौर करने वाली बात ये है कि हाल ही में 8 मरीजों की कोरोना संक्रमण के कारण मृत्यु हो चुकी है. ये मरीज कोरोना संक्रमण की दृष्टि से गम्भीर मरीजों की श्रेणी में आते थे. इन मरीजों को हाई इन्टेंसिव आईसीयू मे भर्ती किए जाने की आवश्यकता थी.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.