सभी ज़िलों से नैनीताल तक पहुंचे बस, न्याय पाना सबका अधिकारः हाईकोर्ट

अदालत ने कहा कि गरीब से गरीब व्यक्ति भी हाईकोर्ट तक पहुंच सके इसलिए पौड़ी, उत्तरकाशी, टिहरी समेत सभी ज़िलों से नैनीताल के लिए बस सेवा शुरू की जाए.

News18 Uttarakhand
Updated: September 10, 2018, 4:35 PM IST
सभी ज़िलों से नैनीताल तक पहुंचे बस, न्याय पाना सबका अधिकारः हाईकोर्ट
उत्तराखंड हाईकोर्ट (फ़ाइल फ़ोटो)
News18 Uttarakhand
Updated: September 10, 2018, 4:35 PM IST
उत्तराखण्ड हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को आदेश दिया है कि राज्य के सभी दूरस्थ जिलों से नैनीताल के लिये सीधी बस सेवा शुरु करें. सुनवाई के दौरान सरकार ने कोर्ट को बताया कि उनका 250 बसों को खरीदने के प्रस्ताव शासन में लम्बित है. इसके बाद कार्यवाहक चीफ जस्टिस राजीव शर्मा व जस्टिस मनोज तिवाड़ी की खण्डपीठ ने सरकार को आदेश दिया है कि दो हफ्तों के भीतर बस खरीदने के प्रस्ताव पर अंतिम निर्णय लें.

बता दें कि चमोली ज़िले के गोपेश्वर के ग्रामीणों ने हाईकोर्ट के मुख्य न्यायमूर्ति को एक पत्र लिखकर कहा था कि उनको हाईकोर्ट के कामकाज के लिए नैनीताल आना होता है मगर पिछले दिनों जारी बस सेवा को बंद कर दिया गया है. कोर्ट ने मामले का संज्ञान लिया तो परिवहन निगम ने अदालत को बताया कि चमोली से चलने वाली बस सेवा को फिर शुरू कर दिया है.

लेकिन अदालत ने सरकार को सभी सुदूरवर्ती ज़िलों से नैनीताल के लिए सीधी बस सेवा शुरू करने को कहा है. अदालत ने कहा कि न्याय का अधिकार, आधारभूत अधिकार है. गरीब से गरीब व्यक्ति भी हाईकोर्ट तक पहुंच सके इसलिए पौड़ी, उत्तरकाशी, टिहरी समेत सभी ज़िलों से नैनीताल के लिए बस सेवा शुरू की जाए.

अदालत ने परिवहन निगम को आदेश दिया है कि एक हफ्ते के भीतर 250 बसों के प्रस्ताव की पैरवी सरकार के सामने करे ताकि बसों की ज़रूरत पूरी हो सके.

(वीरेंद्र बिष्ट की रिपोर्ट)

VIDEO: बुग्यालों में रात्रि विश्राम को लेकर HC ने अपने आदेश में किया संशोधन

बाघों के अवैध शिकार पर नैनीताल हाईकोर्ट सख्त,24 घंटे में मांगा जवाब
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर