सिंचाई विभाग की ज़मीन कब्ज़ाने के मामले में परमार्थ निकेतन के स्वामी चिदानंद को हाईकोर्ट का नोटिस

याचिका में यह भी कहा गया है कि चिदानंद महारजा के भक्त गंगा में कूड़ा भी डाल रहे हैं.

Virendra Bisht | News18 Uttarakhand
Updated: August 8, 2019, 5:18 PM IST
सिंचाई विभाग की ज़मीन कब्ज़ाने के मामले में परमार्थ निकेतन के स्वामी चिदानंद को हाईकोर्ट का नोटिस
सिंचाई विभाग की ज़मीन कब्ज़ाने के मामले में हाईकोर्ट ने चिदानंद सरस्वती, राज्य सरकार, डीएम, हरिद्वार रुड़की विकास प्राधिकरण को नोटिस जारी किया है.
Virendra Bisht | News18 Uttarakhand
Updated: August 8, 2019, 5:18 PM IST
परमार्थ निकेतन के स्वामी चिदानंद सरस्वती को हाईकोर्ट ने नोटिस जारी किया है. सिंचाई विभाग की ज़मीन कब्ज़ाने के मामले में हाईकोर्ट ने चिदानंद सरस्वती, राज्य सरकार, डीएम, हरिद्वार रुड़की विकास प्राधिकरण को नोटिस जारी किया है. कोर्ट ने सभी पक्षकारों को 4 हफ्तों के भीतर जवाब दाखिल करने का आदेश दिया है.

'गंगा में डाल रहे गंदगी'

बता दें कि हाईकोर्ट के अधिवक्ता विवेक शुक्ला ने याचिका दाखिल कर परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष पर आश्रम के सामने सिंचाई विभाग की ज़मीन पर आरती स्थल के नाम पर निर्माण करने का आरोप लगाया है. याचिका में यह भी आरोप लगाया है कि इसे शादी समेत अन्य आयोजनों के लिए किराए पर भी दिया जाता है.

याचिका में यह भी कहा गया है कि चिदानंद महारजा के भक्त गंगा में कूड़ा भी डाल रहे हैं. याचिका में कहा गया है कि गंगा के अंदर 90 फीट तक चिदानंद महाराज ने अवैध तरीके से पुल बनवा रखा है.

अवैध निर्माण पर कार्रवाई की मांग 

याचिका में ज़िला प्रशासन और विकास प्राधिकरण को भी कठघरे में खड़ा करते हुए कहा गया है कि कई बार लोगों ने इसकी शिकायत भी की है लेकिन अपने रसूख का इस्तेमाल कर बाबा ने सारे मामले रुकवा दिए.

याचिका में हाईकोर्ट से मांग की गई है कि इस अवैध निर्माण पर कार्रवाई की जाए. आज हाईकोर्ट की खण्डपीठ ने पूरे मामले को सुनने के बाद सभी पक्षकारों को नोटिस जारी कर दिया है.
Loading...

ये भी देखें: 

 ‘3 महीने में हटाएं तालाब भूमि पर बने होटल, पुलिस चौकी, कॉम्प्लेक्स’

अब रुड़की में तालाब की ज़मीन से अतिक्रमण हटाने के हाईकोर्ट के आदेश

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नैनीताल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 8, 2019, 5:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...