Exclusive: रोहित शेखर ने अपनी आखिरी स्पीच में वोट को लेकर कही थी ये बड़ी बात

रोहित शेखर तिवारी 11 अप्रैल को अपनी मां के साथ नैनीताल स्थित अपने पैतृक गांव में वोट देने के लिए पहुंचे थे. जहां रोहित शेखर के साथ उनकी मां उज्जवला शर्मा तिवारी भी थीं.

Manish Kumar | News18 Uttar Pradesh
Updated: April 16, 2019, 9:15 PM IST
Manish Kumar
Manish Kumar | News18 Uttar Pradesh
Updated: April 16, 2019, 9:15 PM IST
कांग्रेस के दिवंगत नेता और पूर्व मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी के बेटे रोहित शेखर का निधन हो गया है. बताया जाता है कि उन्हें दिल्ली के मैक्स साकेत अस्पताल में भर्ती कराया गया था. जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. न्यूज़18 अपने पाठकों के लिए रोहित शेखर की एक्सक्लूसिव आखिरी स्पीच के बारे में बताने जा रहा है, जो उन्होंने मौत से पांच दिन पहले यानी 11 अप्रैल को नैनीताल स्थित अपने पैतृक गांव में दी थी.

रोहित शेखर तिवारी 11 अप्रैल को अपनी मां के साथ नैनीताल स्थित अपने पैतृक गांव में वोट देने के लिए पहुंचे थे. जहां रोहित शेखर के साथ उनकी मां उज्जवला शर्मा तिवारी भी थीं. वोट डालने के बाद रोहित शेखर लोगों से अपील की थी कि वे भी वोट देने के लिए घरों से बाहर आएं. रोहित तिवारी ने कहा था, "मैं दिल्ली से सिर्फ इसलिए आया क्योंकि मैं वोट डालूं. यह मेरा कर्तव्य बनता है. महान पिता का पुत्र होने के नाते मेरा कर्तव्य है कि एक नागरिक होने के नाते मैं वोट डालूं. मैंने अपना वोट हरीश रावत के लिए डाला है. मैंने यह वोट अपना दिल से डाला है और राहुल गांधी के लिए, प्रियंका गांधी और कांग्रेस पार्टी के लिए डाला है."



बता दें, उत्तराखंड की सभी सीटों पर पहले चरण में 11 अप्रैल को मतदान हुआ था. इसी को देखते हुए रोहित शेखर दिल्ली से उत्तराखंड के नैनीताल वोट डालने पहुंचे थे.

 

ये भी पढ़ें--

रोहित शेखर की मौत के बाद अब कौन संभालेगा एनडी तिवारी की राजनीतिक विरासत?

नारायण दत्त तिवारी के बेटे रोहित शेखर को पड़ा दिल का दौरा, मौत
Loading...

रोहित शेखर: लंबे कानूनी संघर्ष के बाद कहलाए थे एनडी तिवारी के बेटे

जब DNA रिपोर्ट में हुआ था खुलासा, एनडी तिवारी ही हैं रोहित शेखर के बायोलॉजिकल पिता

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार