होम /न्यूज /उत्तराखंड /

Covid-19 in Uttarakhand: तीन जिलों में नए केस, दिल्ली के हालात से फिर खतरे में पहाड़ का पर्यटन

Covid-19 in Uttarakhand: तीन जिलों में नए केस, दिल्ली के हालात से फिर खतरे में पहाड़ का पर्यटन

नैनीताल की भीड़भाड़ में मास्क का नियम फॉलो करने वाले न के बराबर हैं.

नैनीताल की भीड़भाड़ में मास्क का नियम फॉलो करने वाले न के बराबर हैं.

Corona Scare in Uttarakhand : दिल्ली में एक दिन में 1000 से ज़्यादा नए केस मिलने के बाद पहाड़ के पर्यटन स्थलों पर खतरा मंडरा रहा है. बेरोकटोक एंट्री जारी रही तो एक और लहर जैसे हालात जल्द बन जाएंगे. अब प्रशासन के सामने पर्यटन जारी रखने और संक्रमण से बचे रहने की चुनौती बनी हुई है.

अधिक पढ़ें ...

नैनीताल. उत्तराखंड में कोरोना के प्रकोप को लेकर एक बार फिर चिंता का माहौल बन रहा है. चार धाम यात्रा शुरू होने जा रही है और नैनीताल व मसूरी जैसे नगरों में पर्यटन सीज़न चरम पर पहुंचने वाला है, लेकिन उससे पहले जिस तरह के हालात दिल्ली और राज्य में बन रहे हैं, उनसे कारोबारियों ही नहीं, बल्कि प्रशासन स्तर पर भी संकट से निपटने का दबाव बन रहा है. बुधवार को उत्तराखंड के तीन ज़िलों में नए केस मिले और नैनीताल में खास तौर से दिल्ली के केसों को लेकर चर्चा गर्म रही.

बीते दो सालों में पर्यटन सीज़न कोरोना की भेंट चढ़ता रहा और इस बार कारोबारियों में उत्साह दिख रहा था, लेकिन दिल्ली में कोरोना संक्रमण की रफ्तार देखकर एक बार फिर सब सकते में आ रहे हैं. फिलहाल नैनीताल में सैलानियों की बेरोकटोक एंट्री जारी है इसलिए अब स्वास्थ्य विभाग भी चौथी लहर को लेकर अलर्ट होता दिख रहा है. पिछले वीकेंड पर जिस तरह भीड़ यहां उमड़ी, उसके बाद नैनीताल ही नहीं, मुक्तेश्वर, रामगढ़, पंगूट, भीमताल जैसे इलाकों में भी कोरोना के दस्तक का खतरा बढ़ गया है.

हालांकि जानकार इसे सिर्फ नैनीताल के लिए नहीं बल्कि पूरे पहाड़ के लिए खतरा मान रहे हैं. डीएम धीराज गर्ब्याल का कहना है ​चूंकि नैनीताल ही क्या पूरे उत्तराखंड की अर्थव्यवस्था पर्यटन पर निर्भर करती है, ऐसे में कई एंगलों से सोचना होगा. उन्होंने यह भी माना कि दिल्ली में संक्रमण विकराल रूप लेगा, तो उसके 15 दिनों के भीतर उत्तराखंड भी चपेट में आएगा. ज़िला अस्पताल के डॉक्टर एमएस दुग्ताल भी मानते हैं कि जैसे पहले की लहरों में सावधानी बरती गई थी, वही गाइडलाइन फॉलो करनी पड़ेगी.

मॉनीटरिंग शुरू, गाइडलाइन का इंतज़ार
गर्ब्याल का कहना है कि उत्तराखंड और दिल्ली में संक्रमण के हालात पर नज़र रखी जा रही है. हालांकि अभी सरकार की तरफ से किसी निर्धारित गाइडलाइन की बात सामने नहीं आई है. वहीं, हल्द्वानी में एक दिन पहले ही स्वास्थ्य विभाग ने एक्टिव मरीज़ों की ट्रैकिंग के लिए नया दफ्तर खोला. इधर, ये भी पिछले कई दिनों से देखा जा रहा है कि पर्यटक, स्थानीय लोग और प्रशासनिक अमले के कर्मचारी भी मास्क पहनने या सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान नहीं रख रहे हैं.

उत्तराखंड में कोरोना के आंकड़े क्या हैं?
बुधवार को 7 नए मामले मिलने के बाद राज्य में एक्टिव मरीज़ों की संख्या 40 रही. देहरादून और हरिद्वार में तीन-तीन और अल्मोड़ा में एक नया केस मिला. इससे पहले, चमोली, पिथौरागढ़, टिहरी, पौड़ी और उधमसिंह नगर में कोई एक्टिव केस न होने के चलते इन्हें कोरोना मुक्त ज़िला बताया जा चुका है. गौरतलब यह भी है कि बुधवार को 1373 सैंपल जांच के लिए भेजे गए. विशेषज्ञों के अनुसार सैंपलिंग बढ़ाने से ही कोरोना पर काबू किया जा सकेगा.

Tags: Delhi corona cases, Uttarakhand Corona Update, Uttarakhand Tourism

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर