लाइव टीवी

कॉर्बेट में 2 वनकर्मियों को मारने वाले आदमखोर बाघ को पकड़ने की कोशिशें तेज़, रेडियो कॉलर लगाया जाएगा

Govind Patni | News18 Uttarakhand
Updated: November 12, 2019, 5:17 PM IST
कॉर्बेट में 2 वनकर्मियों को मारने वाले आदमखोर बाघ को पकड़ने की कोशिशें तेज़, रेडियो कॉलर लगाया जाएगा
कॉर्बेट बाघ रिज़र्व में आदमखोर हो चुके बाघ को ट्रेंक्यूलाइज़ कर पकड़ने के प्रयास किए जा रहे हैं.

आदमखोर बाघ (Man Eater Tiger) ढिकाला में ग्रासलैण्ड (Grassland in Dhikala) के आस-पास रहता है. यहां हाथी से ऊंची घास है और बहुत ऊंची-ऊंची झाडियां भी. इसकी वजह से इसे पकड़ने में कुछ वक्त लग सकता है.

  • Share this:
रामनगर. कॉर्बेट बाघ रिज़र्व (Corbett Tiger Reserve) के ढिकाला रेंज (Dhikala Range) में एक आदमखोर बाघ (Man Eater Tiger) आतंक का पर्याय बना हुआ है. यह बाघ अब तक दो वनकर्मियों का शिकार कर चुका है. इसे पकड़ने की कोशिशें की जा रही हैं लेकिन कॉर्बेट की परिस्थितियां इसे मुश्किल बना रही हैं. इसे पकड़ने के बाद इस पर रेडियो कॉलर (Radio collar) लगाने की योजना है और अगर ऐसा होता है तो यह किसी बाघ पर रेडियो कॉलर लगाने का पहला मामला होगा.

आसान नहीं आदमखोर को पकड़ना 

कॉर्बेट बाघ रिज़र्व में आदमखोर हो चुके बाघ को ट्रेंक्यूलाइज़ कर पकड़ने के प्रयास किए जा रहे हैं. इस बाघ को पकडने के बाद इसका स्वास्थ्य परीक्षण किया जाएगा. अगर यह बाघ स्वस्थ पाया गया तो राज्य में पहली बार किसी बाघ में रेडियो कॉलर लगाया जाएगा ताकि इसकी लोकेशन का पता चलता रहे.

corbett tiger reserve, आदमखोर बाघ को पकड़ने के लिए पिंजरा लगाते वनकर्मी.
आदमखोर बाघ को पकड़ने के लिए पिंजरा लगाते वनकर्मी.


हालांकि इस बाघ को पकडना आसान काम नहीं है क्योंकि यह ढिकाला में ग्रासलैण्ड के आस-पास रहता है. यहां हाथी से ऊंची घास है और बहुत ऊंची-ऊंची झाडियां भी. इसकी वजह से इसे पकड़ने में कुछ वक्त लग सकता है. हांलाकि इसे पकडने के लिए चार टीमें हाथियों पर सवार तैनात हैं और एक टीम ज़मीन पर काम कर ही है.

15 से खुलेगी ढिकाला रेंज 

15 नवम्बर से पार्क का ढिकाला ज़ोन सैलानियों के लिए खोल दिया जाएगा. ऐसे में इस बाघ से सैलानियों को भी खतरे का सामना करना पड़ सकता है. इसकी वजह से पार्क प्रशासन इसे जल्द से जल्द पकड़ने की कोशिश कर रहा है. इतनी चुनौतियों के बीच अब यह देखना दिलचस्प होगा कि यह ऑपरेशन कब अपने अंजाम तक पहुंचता है.
Loading...

ये भी देखें: 

रुद्रप्रयाग में आदमखोर गुलदार की तलाश में भटक रहे हैं उत्तराखंड के दो सबसे बड़े शिकारी 

इस रिहायशी इलाके में घूम रहे 40 तेंदुए, 5 सालों में 20 नागरिकों को बनाया निवाला 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नैनीताल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 12, 2019, 5:13 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...