पंचायती राज संशोधन एक्ट को हाईकोर्ट में चुनौती, दो अलग-अलग याचिकाओं पर कल से दो बेंच करेंगी सुनवाई  

राज्यपाल की मंज़ूरी के बाद पंचायतों में पंचायती राज संसोधन एक्ट लागू कर दिया गया है इस बार इसी एक्ट से चुनाव होने हैं.

Virendra Bisht | News18 Uttarakhand
Updated: August 5, 2019, 5:10 PM IST
पंचायती राज संशोधन एक्ट को हाईकोर्ट में चुनौती, दो अलग-अलग याचिकाओं पर कल से दो बेंच करेंगी सुनवाई  
उत्तराखण्ड पंचायती राज संशोधन एक्ट 2019 को हाईकोर्ट में चुनौती दी गई है.
Virendra Bisht | News18 Uttarakhand
Updated: August 5, 2019, 5:10 PM IST
उत्तराखण्ड पंचायती राज संशोधन एक्ट 2019 को हाईकोर्ट में चुनौती दी गई है. हाईकोर्ट में पंचायत जन अधिकार मंच व मनोहर लाल ने इस एक्ट को हाईकोर्ट में चुनौती दी है. आज दायर याचिकाओं को हाईकोर्ट में स्वीकार कर लिया गया है और कल इस मामले पर हाईकोर्ट की दो अलग-अलग बेंच सुनवाई करेंगी. बता दें कि राज्यपाल की मंज़ूरी के बाद पंचायतों में पंचायती राज संसोधन एक्ट लागू कर दिया गया है इस बार इसी एक्ट से चुनाव होने हैं.

ये हैं ऐतराज़ 

नैनीताल के कोटाबाग के मनोहर लाल ने इस कानून को हाईकोर्ट में चुनौती देते हुए कहा है कि इस एक्ट में दो बच्चों से ज्यादा वाले के चुनाव लड़ने की बाध्यता जो रखी है वह ग़लत है. याचिका में कहा गया है कि अगर संशोधन आज किया है तो इसको आज से ही लागू किया जाना चाहिए. एक्ट लागू होने से पहले अगर किसी के तीन बच्चे हैं तो उसको चुनाव लड़ने की अनुमति मिलनी चाहिए.

याचिका में यह भी कहा गया है कि 10वीं तक शिक्षित होने को अनिवार्य करना भी ग़लत है और उसे भी सरकार ने बिना अध्ययन के लागू किया है क्योंकि कई गांव खाली हो गए हैं जिसके चलते पहाड़ों में पढ़ा-लिखा उम्मीदवार मिलना मुश्किल हैं.

पंचायतों को कमज़ोर करने की साज़िश 

पंचायत जन अधिकार मंच ने भी एक्ट में कई खामियां होने का हवाला देते हुए याचिका दाखिल की है. मंच के संयोजक और कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष जोत सिंह बिष्ट कहते हैं कि यह पंचायतों को कमज़ोर करने की साज़िश है.

बिष्ट कहते हैं कि नया कानून लागू होने से पंचायतों के अनुभवी नेता भी चुनाव नहीं लड़ पाएंगे और उनमें नए लोग ही जाएंगे. इसकी वजह से अधिकारी और राज्य सरकार इन पंचायतों पर हावी हो जाएगी. उन्होंने यह भी कहा कि यह बेरोज़गारों से छल है. अब बेरोज़गार युवा नौकरी मांगने के बजाय पंचायत की राजनीति की ओर बढ़ेंगे और अपनी युवावस्था में मिलने वाले मौके गंवा देंगे.
Loading...

ये भी पढ़ें 

उत्तराखंड में अब दो से ज़्यादा बच्चे वाले नहीं लड़ पाएंगे पंचायत चुनाव, हंगामे के बीच पंचायती राज संशोधन विधेयक पास

घर में शौचालय नहीं तो नहीं लड़ सकेंगे पंचायत चुनाव

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नैनीताल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 5, 2019, 5:06 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...