मोदी लहर का असली इम्तेहान, 2 दिसंबर को आएंगे गुजरात निकाय चुनाव के परिणाम
Nainital News in Hindi

मोदी लहर का असली इम्तेहान, 2 दिसंबर को आएंगे गुजरात निकाय चुनाव के परिणाम
2  दिसंबर का दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गुजरात की मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल के लिए सबसे अहम साबित होने जा रहा है. जी हां, इस दिन गुजरात के स्थानीय निकाय चुनाव के लिए हुए मतदान के परिणाम आने वाले हैं. हालांकि राष्ट्रीय या गुजरात की राजनीति में इसका कोई असर नहीं पड़ने वाला है. लेकिन पीएम मोदी के गढ़ रहे राज्य गुजरात में अगर बीजेपी के पक्ष में सीट कम होती हैं तो निश्चित तौर पर माना जाएगा कि मोदी की लोकप्रियता कम हो रही है.

2  दिसंबर का दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गुजरात की मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल के लिए सबसे अहम साबित होने जा रहा है. जी हां, इस दिन गुजरात के स्थानीय निकाय चुनाव के लिए हुए मतदान के परिणाम आने वाले हैं. हालांकि राष्ट्रीय या गुजरात की राजनीति में इसका कोई असर नहीं पड़ने वाला है. लेकिन पीएम मोदी के गढ़ रहे राज्य गुजरात में अगर बीजेपी के पक्ष में सीट कम होती हैं तो निश्चित तौर पर माना जाएगा कि मोदी की लोकप्रियता कम हो रही है.

  • News18
  • Last Updated: November 27, 2015, 4:26 PM IST
  • Share this:
2  दिसंबर का दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गुजरात की मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल के लिए सबसे अहम साबित होने जा रहा है. जी हां, इस दिन गुजरात के स्थानीय निकाय चुनाव के लिए हुए मतदान के परिणाम आने वाले हैं. हालांकि राष्ट्रीय या गुजरात की राजनीति में इसका कोई असर नहीं पड़ने वाला है. लेकिन पीएम मोदी के गढ़ रहे राज्य गुजरात में अगर बीजेपी के पक्ष में सीट कम होती हैं तो निश्चित तौर पर माना जाएगा कि मोदी की लोकप्रियता कम हो रही है.

सीएम आनंदीबेन की प्रतिष्ठा भी दांव पर
दिल्ली और बिहार में विधानसभा चुनाव हारने के बाद ऐसा पहला चुनाव होगा जिसमें एक बार फिर सीधे तौर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जोड़कर देखा जाएगा. लेकिन इन चुनावों में गुजरात की मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल की भी प्रतिष्ठा दांव पर लगी है. मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद उनको गुजरात का सीएम बनाया गया था. उनके नेतृत्व में बीजेपी ने पहला चुनाव गुजरात में लड़ा है.

2010 में मिली थी बंपर जीत
गौरतलब है कि 2010 में बीजेपी को सभी महानगर पालिकाओँ और ग्रामीण इलाकों में दो तिहाई से ज्यादा का बहुमत मिला था. इसलिए ये अगर बीजेपी पहले जैसा प्रदर्शन नहीं दोहरा पाती है तो निश्चित तौर पर इसको पीएम मोदी की लोकप्रियता से जो़ड़ा जाएगा.



हार्दिक पटेल के दावे होंगे कितने सही?
इन चुनाव परिणामों में पाटीदार आंदोलन के अगुवा रहे हार्दिक पटेल के दावों की भी कड़ी परीक्षा होगी. उन्होंने पटेल आरक्षण के दौरान ऐलान किया था कि अगर बीजेपी सरकार ने उनकी मांगों नहीं माना तो गुजरात के पटेल का राज्य से कांग्रेस की तरह बीजेपी को भी उखाड़ फेकेंगे. जाहिर है गुजरात में पटेल एक बड़ा वोट बैंक हैं और इस चुनाव में तय होगा कि कितने पटेल हार्दिक के साथ हैं.

 

 

 

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading