पाले से हुआ टमाटर की फसल को नुकसान, किसान परेशान

आने वाले दिनों में उत्तराखंड में रहने वाले लोगों को सब्जियों के लिए ज्यादा जेब ढीली करनी पड़ सकती है. बारिश की कमी और जबरदस्त पाले पड़ने ने सब्जियों और विशेषकर टमाटर की खेती को काफी​ नुकसान हो चुका है. सब्जियों में पाले की मार पड़ने से राज्य के किसान काफी परेशान है. दरअसल समय से बारिश का न होने और ऊपर से रात के समय पड़ने वाला पाला टमाटर की खेती के लिए काल साबित हो रहा है. जिससे टमाटर के अच्छे खासे पौधे पीले पड़ने लगे हैं. किसान इस बात से परेशान है कि जो फसल उसने अच्छी खासी मेहनत और पूंजी खर्च कर लगाई उसकी लागत उन्हें मिलेगी भी या नहीं.

Shailendra Singh | ETV UP/Uttarakhand
Updated: January 14, 2018, 11:44 AM IST
पाले से हुआ टमाटर की फसल को नुकसान, किसान परेशान
पाले से झुलसी टमाटर के फसल.
Shailendra Singh | ETV UP/Uttarakhand
Updated: January 14, 2018, 11:44 AM IST
आने वाले दिनों में उत्तराखंड में रहने वाले लोगों को सब्जियों के लिए ज्यादा जेब ढीली करनी पड़ सकती है. बारिश की कमी और जबरदस्त पाले पड़ने ने सब्जियों और विशेषकर टमाटर की खेती को काफी​ नुकसान हो चुका है. सब्जियों में पाले की मार पड़ने से राज्य के किसान काफी परेशान है. दरअसल समय से बारिश का न होने और ऊपर से रात के समय पड़ने वाला पाला टमाटर की खेती के लिए काल साबित हो रहा है. जिससे टमाटर के अच्छे खासे पौधे पीले पड़ने लगे हैं. किसान इस बात से परेशान है कि जो फसल उसने अच्छी खासी मेहनत और पूंजी खर्च कर लगाई उसकी लागत उन्हें मिलेगी भी या नहीं.

पाला पड़ने से टमाटर झुलसा रोग की चपेट में आ चुका है. जिसके कारण टमाटर के पौधे बेदम हो चुके हैं. जिससे बाजार में टमाटर की आवक कम हो चुकी है.

जिससे एक सप्ताह पहले 10 रुपये किलो मिलने वाला टमाटर अब 20 से 30 रुपये तक पहुंच चुका है. नैनीताल के जिलाधिकारी भी मानते हैं कि पाले के कारण टमाटर की फसल को नुकसान हुआ है, जिसका आंकलन किया जा रहा है.

बहरहाल प्रशासन नफे-नुकसान की नाप-तोल में जुटा हुआ है, लेकिन एक बात साफ है कि खेत में चौपट फसल का सीधा असर उपभोक्ताओं की जेब पर पड़ने वाला है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर