Lockdown में मिली छूट के बाद पहली ट्रेन से गुजरात से उत्तराखंड पहुंचे 1200 लोग
Nainital News in Hindi

Lockdown में मिली छूट के बाद पहली ट्रेन से गुजरात से उत्तराखंड पहुंचे 1200 लोग
इन यात्रियों की थ्री लेयर हेल्थ स्क्रीनिंग होगी.

MIgrants returned to Uttrakhand: नौकरी के लिए देश के कई राज्यों में रहने वाले उत्तराखंडियों (Uttrakhandi) का ट्रेन के जरिए राज्य में वापस लौटने का सिलसिला शुरू हो चुका है. पहली ट्रेन सोमवार देर रात काठगोदाम (Kathgodam) स्टेशन पहुंची.

  • Share this:
हल्द्वानी (नैनीताल). नौकरी के लिए देश के कई राज्यों में रहने वाले उत्तराखंड के लोगों का ट्रेन के जरिए राज्य में वापस लौटने का सिलसिला शुरू हो चुका है. प्रवासियों (Migrants) से भरी पहली ट्रेन सोमवार देर रात गुजरात के सूरत से कुमाऊं मंडल के काठगोदाम (Kathgodam) स्टेशन पहुंची. इस ट्रेन में 1200 यात्री सवार थे. इसके अलावा दूसरी ट्रेन हरिद्वार पहुंचेगी. प्रदेश में बेंगलुरु और पुणे से भी यात्रियों को लेकर ट्रेनें आ रही हैं. सोमवार देर रात गुजरात के सूरत से चलकर पहली स्पेशल ट्रेन कुमाऊं मंडल के काठगोदाम पहुंची. जहां सबसे पहले सभी यात्रियों की प्राइमरी हेल्थ स्क्रीनिंग की गई. लौटे हुए यात्रियों में नैनीताल के 510 , बागेश्वर के 291, पिथौरागढ़ के 254, अल्मोड़ा के 123, ऊधम सिंह नगर के 16 और चंपावत के 6 यात्रियों को मिलाकर 1200 से ज्यादा यात्री हैं. जिन्हें हल्द्वानी से रोडवेज बसों के जरिए इनके जिलों में भेजा जा रहा है.

किसी का छिना रोजगार तो कोई भूख से था परेशान
यहां वापस लौटे लोगों में से किसी ने रोजगार छिनने का दर्द बयां किया तो कोई खाना न मिलने के कारण भूख से परेशान था. बहरहाल घर आने के बाद सभी ने राहत की सांस ली है और सरकार का शुक्रिया अदा किया है.

इसलिए परेशान थे लोग
नैनीताल के बेतालघाट के रहने वाले देवेंद्र सिंह ने बताया कि वो परिवार समेत सूरत में रहते थे. क्योंकि वो होटल में काम करते थे. लेकिन लॉकडाउन होते ही होटल बंद हो गए और खाने की दिक्कत होने लगी. इसी तरह हल्द्वानी के बिंदुखत्ता की रहने वाले अनुजा बताती हैं कि वो एक डायमंड कंपनी में काम करती थी. लेकिन फैक्ट्री बंद हो गई. जिससे पैसे की दिक्कत होने लगी थी. बिंदुखत्ता के ही रहने वाले सचिन रावत ने बताया कि वो भूख से परेशान थे. क्योंकि खाने की दिक्कत बहुत ज्यादा थी. लेकिन अब लग रहा है जैसे इन सभी को दूसरी जिंदगी मिल गई हो.



हो रही थ्री लेयर हेल्थ स्क्रीनिंग
गुजराज टॉप टू स्टेट्स में है जहां से कोरोना के सबसे ज्यादा मरीज सामने आए हैं. इसलिए यहां से लौटे लोगों को लेकर विशेष सावधानी बरती जा रही है. रेलवे स्टेशन पर प्राइमरी हेल्थ चैकअप के बाद चंपावत, अल्मोड़ा, बागेश्वर, पिथौरागढ़ और ऊधम सिंह नगर के लोगों को हल्द्वानी के गौलापार इंटरनेशनल स्टेडियम ले जाया गया है. जबकि नैनीताल जिले के 510 लोगों को रामपुर रोड के एक बैंकेटहॉल में ले जाया गया है. जहां इनकी सेकंड फेज की हेल्थ स्क्रीनिंग होगी. इसके बाद जो संदिग्ध मिलेगा उसे हल्द्वानी में ही इंस्टीट्यूशनल क्वांरटीन किया जाएगा. जबकि अन्य को उनके जिलों में वापस भेजा जाएगा. जिलों में भेजकर इन्हें कैसे रखना है इसका फैसला वहां के डीएम करेंगे. हालांकि वहां भी इन सभी का हेल्थ चैकअप होगा.

ऐसे हुआ स्वागत
सूरत से लौटे लोगों के स्वागत के लिए सोमवार देर रात नैनीताल जिले के डीएम सविन बंसल, पुलिस कप्तान सुनील कुमार मीणा, सीडीओ विनीत कुमार, सीएमओ भारती राणा, आरटीओ राजीव मेहरा, एसडीएम विवेक राय, सिटी मजिस्ट्रेट प्रत्यूष सिंह अपनी टीम के साथ मौजूद थे. यहां पहुंचे लोगों का बीजेपी कार्यकर्ताओं ने भी चने, मुरमुरे, बिस्कुट, पानी, जूस देकर स्वागत किया. नैनीताल के बीजेपी जिलाध्यक्ष प्रदीप बिष्ट ने लोगों की घर वापसी पर हर्ष प्रकट किया.

 

ये भी पढ़ें:

उत्तराखंड का ट्यूलिप गार्डन बटोर रहा वाहवाही, उमर अब्दुल्ला ने की ऐसी तारीफ
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज