होम /न्यूज /उत्तराखंड /धामी कैबिनेट के मंत्री यतीश्वरानंद को उत्तराखंड हाईकोर्ट ने जारी किया अवमानना का नोटिस

धामी कैबिनेट के मंत्री यतीश्वरानंद को उत्तराखंड हाईकोर्ट ने जारी किया अवमानना का नोटिस

उच्च न्यायालय ने आम आदमी पार्टी के द्वारा 300 यूनिट फ्री बिजली देने के संदर्भ में दाखिल याचिका पर सुनवाई की.

उच्च न्यायालय ने आम आदमी पार्टी के द्वारा 300 यूनिट फ्री बिजली देने के संदर्भ में दाखिल याचिका पर सुनवाई की.

contempt of court : यतीश्वरानंद गुरुकुल महासभा हरिद्वार के मंत्री पद पर थे, लेकिन 30 जून 2018 को महासभा ने उनको पद से ह ...अधिक पढ़ें

नैनीताल. उत्तराखंड सरकार के कैबिनेट मंत्री यतीश्वरानंद को हाईकोर्ट से नोटिस जारी हुआ है. कोर्ट आदेश के खिलाफ खुद को गुरुकुल महासभा का मंत्री बनाने पर कोर्ट ने अवमानना नोटिस जारी किया है. कोर्ट ने कैबिनेट मंत्री को 24 घंटे के भीतर नोटिस सर्व करने के साथ 3 हफ्तों में जवाब दाखिल करने का आदेश दिया है. कैबिनेट मंत्री बनने के बाद यतीश्वरानंद पर दबाव डालकर आदेश निकालने का आरोप है.

दरअसल, यतीश्वरानंद गुरुकुल महासभा हरिद्वार के मंत्री पद पर थे, लेकिन 30 जून 2018 को महासभा ने उनको पद से हटाते हुए उनकी सदस्यता भी खत्म कर दी थी. इस आदेश को यतीश्वरानंद ने हाईकोर्ट में चुनौती दी तो कोर्ट ने यतीश्वरानंद की याचिका खारिज कर दी. तब यतीश्वरानंद ने स्पेशल अपील की, कोर्ट ने इसे भी रद्द कर दिया था.

इसे भी पढ़ें : हरीश रावत का विजय बहुगुणा को खुला जवाब – ‘क​हिए कहां से लड़ेंगे चुनाव, मैं वहीं से लड़ लूंगा’

आरोप है कि उत्तराखंड सरकार में कैबिनेट मंत्री बनने के बाद यतीश्वरानंद ने रजिस्ट्रार से महासभा के आदेश को 31 अगस्त 2021 को निरस्त करवा दिया. इस आदेश को गुरुकुल महासभा हरिद्वार ने हाईकोर्ट में चुनौती दी, जिस पर कोर्ट ने रजिस्ट्रार की कार्रवाई पर रोक लगा दी. अब महासभा द्वारा दाखिल अ‌वमानना याचिका में कहा गया है कि यतीश्वरानंद खुद को गुरुकुल महासभा का मंत्री बता रहे हैं और गलत प्रचार कर रहे हैं. आज मामले को सुनने के बाद जस्टिस मनोज तिवाड़ी के कोर्ट ने मंत्री यतीश्वरानंद को नोटिस जारी कर दिया है.

इसे भी पढ़ें : अमित शाह के दौरे से पहले विवाद में ‘घसियारी योजना’, धनसिंह रावत के बयान पर भड़की कांग्रेस

गुरुकुल महासभा के वकील परीक्षित सैनी ने बताया कि मंत्री द्वारा भ्रामक प्रचार के खिलाफ कोर्ट को जानकारी दी गई, क्योंकि कोर्ट ने पहले ही उनके खिलाफ आदेश पारित कर दिया गया था. लेकिन तब भी खुद को यतीश्वरानंद गुरुकुल सभा का मंत्री बता रहे थे. अब कोर्ट ने नोटिस जारी किया है और यतीश्वरानंद के जवाब का इंतजार है. उसके बाद उनके जवाब का प्रतिउत्तर कोर्ट में दाखिल किया जाएगा

Tags: Notice, Uttarakhand high court, Uttarakhand news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें