छात्रा के यौन शोषण पर नैनीताल हाईकोर्ट ने लिया संज्ञान, FIR के आदेश

अदालत ने एसएसपी देहरादून को आदेश दिया है कि एनआईवीएच में रेगुलर विज़िट के लिए एक महिला एसआई के साथ दो कॉन्स्टेबलों की नियुक्ति करें.

News18 Uttarakhand
Updated: August 30, 2018, 12:08 PM IST
छात्रा के यौन शोषण पर नैनीताल हाईकोर्ट ने लिया संज्ञान, FIR के आदेश
NIVH मामले का उत्तराखंड हाईकोर्ट ने स्वतः संज्ञान लिया है.
News18 Uttarakhand
Updated: August 30, 2018, 12:08 PM IST
नैनीताल हाईकोर्ट ने हाईकोर्ट ने देहरादून के एनआईवीएच संस्थान में छात्राओं के साथ छेड़छाड़ और यौन शोषण के मामले में संस्थान निदेशक को आदेश दिया है कि छेड़छाड़ के आरोपी टीचर को सस्पेंड कर उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज करें. एनआईवीएच यौन शोषण मामले का स्वतः संज्ञान लेते हुए अदालत ने यह भी आदेश दिया कि संस्थान में 12 घंटों के अंदर एमबीबीएस डॉक्टर की नियुक्ति की जाए, जिससे बच्चों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मिल सके.

कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति राजीव शर्मा और न्यायमूर्ति मनोज कुमार तिवारी की खंडपीठ ने मामले की सुनवार्इ करते हुए सचिव सेंथिल पांडियन को जांच अधिकारी नियुक्त किया और कहा कि तीन दिन के भीतर जांच रिपोर्ट कोर्ट पेश करें, जिसमें सभी बातों की पड़ताल की गई हो.

अदालत ने एसएसपी देहरादून को आदेश दिया है कि एनआईवीएच में रेगुलर विज़िट के लिए एक महिला एसआई के साथ दो कॉन्स्टेबलों की नियुक्ति करें. बिजली आपूर्ति बाधित न हो, इसके लिए 48 घंटों के अंदर जनरेटर की व्यवस्था करने को कहा गया.

खंडपीठ ने संस्कृति सचिव को आदेश दिया कि एनआईवीएच में खेल मैदान बनाया जाए. बच्चों को खेल और सांस्कृतिक कार्यक्रमों में शामिल कराया जाए. अदालत ने कहा कि ये उनकी नैतिक जिम्मेदारी भी है. कोर्ट ने केंद्र सरकार को आदेश दिया है कि इस संस्थान में सात दिन के भीतर नियमित निदेशक की नियुक्त की जाए. मामले में अगली सुनवाई मंगलवार 4 सितंबर को होगी.

NIVH के नए निदेशक का दावा... ख़त्म हो गया है विवाद, कक्षाएं हुईं शुरू

VIDEO: NIVH की निदेशक अनुराधा डालमिया ने भी सौंपा इस्तीफा
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर