उत्तराखंडः हाईवे पर चलते साइकिल सवार पर मौत बनकर गिरा बिजली का तार, दर्दनाक मौत

मारे गए युवक के परिवार के आर्थिक हालात ऐसे हैं कि कमल के अंतिम संस्कार के लिए तक परिजनों के पास पैसे नहीं थे.
मारे गए युवक के परिवार के आर्थिक हालात ऐसे हैं कि कमल के अंतिम संस्कार के लिए तक परिजनों के पास पैसे नहीं थे.

हल्द्वानी में 11 हजार वोल्ट की बिजली की लाइन से एक तार टूटकर कमल रावत के ऊपर गिर पड़ा, जिससे उसकी वहीं दर्दनाक मौत हो गई.

  • Share this:
हल्द्वानी में शुक्रवार सुबह एक बेहद दर्दनाक हादसा हुआ जिसमें बिजली के करंट से एक 30 साल के युवक की मौत हो गई. घटना नैनीताल रोड पर बृजलाल अस्पताल के पास की है, जहां से गुजर रहे एक साइकिल सवार पर बिजली की हाइटेंशन लाइन का तार टूट कर गिर पड़ा. इससे युवक बुरी तरह झुलसने लगा और उसकी मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई. इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है. वीडियो रौंगटे खड़े करने वाला है.

ऐसे हुई दुर्घटना

बताया जा रहा है कि दमुवाढूंगा निवासी कमल रावत शहर के एक क्लीनिक में हेल्पर था. शुक्रवार सुबह वह घर से ड्यूटी के लिए निकला. इसी दौरान बृजलाल अस्पताल के करीब 11 हजार वोल्ट की बिजली की लाइन से एक तार टूटकर कमल के ऊपर गिर पड़ा, जिससे कमल की मौके पर ही मौत हो गई. एसपी सिटी अमित श्रीवास्तव ने बताया कि काठगोदाम थाना पुलिस घटना की जांच में जुटी है.



नैनीताल के डीएम सविन बंसल ने घटना की जांच के आदेश दिए हैं क्योंकि पहली नजर में बिजली विभाग की लापरवाही साफ दिखाई दे रही है. प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक जिस समय दुर्घटना घटी उस समय मौसम बिल्कुल ठीक था. आंधी-तूफान या तेज हवाएं भी नहीं चल रही थी.
ऐसे में 11 हजार केवी की लाइन का तार कैसे टूट गया ये जांच का विषय है. माना जा रहा है कि लाइन जर्जर हालत में होगी जिसकी तरफ समय रहते बिजली विभाग ने ध्यान नहीं दिया.


परिवार में मचा कोहराम

मृतक के परिजन अब बिजली विभाग के अधिकारियों पर कार्रवाई की मांग कर रहे हैं. डीएम बंसल ने घटना की मैजिस्ट्रेटी जांच के आदेश दिए हैं. साथ ही बिजली विभाग को भी मृतक के परिजनों को तत्काल आर्थिक सहायता देने के निर्देश दिए हैं.

राह चलते कमल की मौत से परिवार में कोहराम मचा हुआ है. कमल परिवार मे अकेले कमाने वाले शख्स थे. उनकी मौत से घर मे माता-पिता और पत्नी का रो-रोकर बुरा हाल है. कमल के दो बच्चे हैं. एक बच्चा क्लास पहली क्लास में पढ़ता है और एक महीने पहले ही उसकी बेटी हुई थी. परिवार के आर्थिक हालात ऐसे हैं कि कमल के अंतिम संस्कार के लिए तक परिजनों के पास पैसे नहीं थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज