सेना भर्ती के लिए देहरादून निकला था बागेश्वर का युवक... पहुंचा मलेशिया, हुआ गिरफ़्तार

सेना में भर्ती तो हो नहीं पाया वीरेंद्र लेकिन हिमाचल के कबूरतरबाज़ों के चक्कर में फंस गया और...

Virendra Bisht | News18 Uttarakhand
Updated: August 22, 2019, 6:17 PM IST
सेना भर्ती के लिए देहरादून निकला था बागेश्वर का युवक... पहुंचा मलेशिया, हुआ गिरफ़्तार
नैनीताल हाईकोर्ट ने बागेश्वर के वीरेंद्र के पिता की हैबियस कॉर्पस पर सुनवाई करते हुए केंद्र सरकार को नोटिस जारी किया है.
Virendra Bisht | News18 Uttarakhand
Updated: August 22, 2019, 6:17 PM IST
कबूतरबाज़ी में फंसकर बागेश्वर का एक युवक मलेशिया पहुंचा और न सिर्फ़ पैसे गंवा बैठा बल्कि गिरफ़्तार भी हो गया. इधर परिजनों को उसके बारे में कहीं से भी कुछ पता नहीं चला तो वह नैनीताल हाई कोर्ट पहुंचे और कोर्ट के दखल के बाद पता चला कि वह मलेशिया पहुंच गया है और वहां गिरफ़्तार है. अब पीड़ित की दरख्वास्त पर हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार से यह भी बताने को कहा है कि उस युवक को मलेशिया में किस आरोप में गिरफ़्तार किया गया है.

हाईकोर्ट ने पूछा सवाल तो पता चला

पीड़ित के वकील केके जोशी ने बताया कि बागेश्वर का रहने वाला वीरेंद्र कुमार जब गायब हो गया और उनका कहीं से कुछ पता नहीं चला तो उनके पिता की ओर से हाईकोर्ट में हैबियस कॉर्पस एप्लीकेशन दायर की गई. इस मामले में हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को नोटिस जारी किया तो आज राज्य सरकार ने कोर्ट में जवाब दाखिल किया. राज्य सरकार को विदेश मंत्रालय से पता चला है कि वीरेंद्र कुमार मलेशिया में हैं और गिरफ़्तार हो गया है.

दरअसल भाखुलखोला गांव, बैजनाथ, बागेश्वर के रहने वाले वीरेन्द्र देहरादून में आर्मी भर्ती के लिए निकला था. वहीं हिमाचल प्रदेश के कुछ कुछ लोगों ने उसे मर्चेंट नेवी में भर्ती करवाने का भरोसा दिलाया और उससे पांच लाख रुपये झटक लिए. इसके बाद मर्चेंट नेवी में नौकरी के नाम पर उसे मलेशिया भेज दिया गया.

केंद्र बताए, गिरफ़्तारी की वजह 

मलेशिया में वीरेंद्र को मर्चेंट नेवी में नौकरी देने के बजाय किसी के घर में बतौर घरेलू नौकर रख दिया गया. जब वीरेंद्र का घर में संपर्क नहीं हुआ तो उसके पिता हाईकोर्ट की शरण में पहुंचे. आज राज्य सरकार का जवाब सुनने के बाद हाईकोर्ट ने केन्द्र सरकार को आदेश दिया है कि वह पता करे कि किस आरोप में वीरेन्द्र को मलेशिया पुलिस ने गिरफ्तार किया है.

वीरेंद्र के पिता ने हाईकोर्ट से गुहार लगाई है कि केंद्र सरकार से वीरेंद्र को वापस लाने को जाए.
Loading...

ये भी देखें: 

अब Uttarakhand के गरीबों को भी मिलेंगी ‘चिदंबरम जैसी’ सुविधा, यहां जानिए कैसे

चीफ जस्टिस बोले- कोई मुझे भी गोली मार दे तो वकील केस लड़ने से इनकार नहीं कर सकते 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नैनीताल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 22, 2019, 6:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...