Home /News /uttarakhand /

देहरादून में नाले-खालों पर अतिक्रमण रोकने के लिए क्या किया? उत्तराखंड हाईकोर्ट ने DM, राज्य-केंद्र सरकार से पूछा

देहरादून में नाले-खालों पर अतिक्रमण रोकने के लिए क्या किया? उत्तराखंड हाईकोर्ट ने DM, राज्य-केंद्र सरकार से पूछा

हाईकोर्ट की चीफ जस्टिस की बेंच ने देहरादून के ज़िलाधिकारी को पूछा है कि अतिक्रमण मामले को लेकर उन्होंने क्या कदम उठाए हैं. (फ़ाइल फ़ोटो)

हाईकोर्ट की चीफ जस्टिस की बेंच ने देहरादून के ज़िलाधिकारी को पूछा है कि अतिक्रमण मामले को लेकर उन्होंने क्या कदम उठाए हैं. (फ़ाइल फ़ोटो)

हाईकोर्ट ने कहा है कि अगर शपथ पत्र दाखिल किया जाता है तो डीएम खुद कोर्ट में मौजूद रहें.

    देहरादून में नदी, नालों व तालाब-खालों पर लगातार हो रहे अतिक्रमण पर हाईकोर्ट ने सख्त रुख अपनाया है. हाईकोर्ट की चीफ जस्टिस की बेंच ने देहरादून के ज़िलाधिकारी को पूछा है कि अतिक्रमण मामले को लेकर उन्होंने क्या कदम उठाए हैं. हाईकोर्ट ने कहा है कि पूरी दून घाटी के अतिक्रमण को लेकर दो हफ्तों के भीतर शपथ पत्र के साथ रिपोर्ट कोर्ट में पेश करें. हाईकोर्ट ने कहा है कि अगर शपथ पत्र डीएम नहीं दाखिल करते हैं तो वो कोर्ट में खुद मौजूद रहें. हाईकोर्ट ने राज्य और केन्द्र सरकार को भी इस मामले पर जवाब न देने पर जमकर फटकार लगाई.

    जनहित याचिका 

    बता दें कि उर्मिला थापा ने हाईकोर्ट में जनहित याचिका दाखिल कर कहा है कि राजपुर और मसूरी के बीच में कई स्थानों पर नदी नाले व जलमग्न भूमि में अवैध अतिक्रमण किया गया है जिससे देहरादून की हरियाली को भी खतरा बन गया है. याचिका में अतिक्रमण हटाने की मांग की गई है.

    सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता के अधिवक्ता ने कोर्ट में 10 साल पुरानी सैटेलाइट तस्वीरों भी दिखाई थीं जिनमें हरियाली नज़र आ रही थी. याचिकाकर्ता ने यह भी कहा कि दून घाटी की हरियाली को खतरा है. कोर्ट को बताया गया है कि 1989 में केन्द्र सरकार ने दून वैली को ईको सेंसिटिव बनाने की अधिसूचना जारी की थी और उसका भी उल्लंघन किया गया है.

    अब तक क्या किया? 

    कोर्ट ने तीन महीने पहले भी इस मामले पर सफ़ाई मांगी थी लेकिन कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिला. उर्मिला थापा की याचिका को फिर सुनवाई के लिए स्वीकार करते हुए राज्य केन्द्र व एमडीडीए से जवाब तलब किया है. ख़ासतौर पर देहरादून के ज़िलाधिकारी से दो हफ़्ते में यह बताने को कहा है कि कहां-कहां बरसाती नालों को भरा जा रहा है और इसे रोकने के लिए क्या कार्रवाई की गई है, क्या की जानी है.

    ये भी देखें: 

    कम ही राज्यों के पास बची है हरियाली, उत्तराखंड को बर्बाद करना ठीक नहीं: हाईकोर्ट

    कोर्ट की सख्ती के बाद भी त्रिवेणी घाट में हो रहा अतिक्रमण 

    Tags: Encroachment, High court, Nainital news, Uttarakhand news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर