200 करोड़ी शादी के लिए ही क्यों खोला था औली में होटल, हाईकोर्ट ने GMVN से दो हफ़्ते में जवाब मांगा

Virendra Bisht | News18 Uttarakhand
Updated: September 11, 2019, 6:14 PM IST
200 करोड़ी शादी के लिए ही क्यों खोला था औली में होटल, हाईकोर्ट ने GMVN से दो हफ़्ते में जवाब मांगा
औली में गुप्ता परिवार की शादी के बाद फैला कूड़ा. हाईकोर्ट इस शादी के आयोजन के पर्यावरण पर पड़े असर को लेकर याचिका की सुनवाई कर रहा है. (फ़ाइल फ़ोटो)

पिछली सुनवाई में हाईकोर्ट ने जीबी पंत संस्थान अल्मोड़ा को यह भी बताने को कहा था कि औली बुग्याल है या नहीं? आज इस पर कोई चर्चा नहीं हुई.

  • Share this:
औली में गुप्ता परिवार की शादी के लिए रेड कार्पेट बिछाना जीएमवीएन के लिए भारी पड़ रहा है. इस माममले की सुनवाई कर रहे नैनीताल हाईकोर्ट ने जीएमवीएन से पूछा है कि आखिर क्यों इस शादी को लेकर ही इस होटल को खोला गया था, इस पर दो हफ्तों के भीतर शपथ पत्र दाखिल कर जवाब दाखिल करें. हाईकोर्ट ने जीएमवीएन से कहा है कि वह कोर्ट को यह भी ब्यौरा दें कि कब-कब इस होटल में बुकिंग की गई. पिछली सुनवाई में हाईकोर्ट ने जीबी पंत संस्थान अल्मोड़ा को यह भी बताने को कहा था कि औली बुग्याल है या नहीं? आज इस पर कोई चर्चा नहीं हुई. माना जा रहा है कि अगली सुनवाई में कोर्ट पर स्पष्टीकरण लेगा.

शादी रोकने के लिए थी मूल याचिका 

बता दें कि औली में गुप्ता परिवार की 200 करोड़ की शादी के लिए राज्य सरकार ने रेड कार्पेट बिछाकर स्वागत किया था. इस शादी को अधिवक्ता रक्षित जोशी ने हाईकोर्ट में चुनौती दी थी. याचिका में कहा गया था कि औली बुग्याल में इस तरह के आयोजनों पर रोक लगाई जाए क्योंकि इससे पर्यावरण को भारी नुकसान होगा. कोर्ट ने शादी को रोकने से मना करते हुए गुप्ता परिवार को 3 करोड़ रुपये जमा करने के आदेश दिए थे. अब कोर्ट इस याचिका के विभिन्न पहलुओं पर सुनवाई कर रहा है.

SPCB ने किए हाथ खड़े 

हाईकोर्ट की खण्डपीठ में आज सुनवाई के दौरान राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने कहा कि औली को पुराने स्वरुप में लाने के लिए 27 लाख रुपये का खर्च आएगा लेकिन उसके पास इस काम के लिए एक्सपर्ट नहीं हैं. इसके बाद कोर्ट ने जीबी पंत संस्थान, अल्मोड़ा और राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को आदेश दिया कि औली को पुराने स्वरूप में लाने के लिए त्वरित कार्रवाई शुरु करें.

इस मामले से संबंधित सरकार के विभिन्न विभाग शादी से पहले दावा करते रहे थे कि शादी से औली को कोई नुक़सान नहीं होगा. हाईकोर्ट के दखल के बाद फिर यह दावे किए गए कि शादी के बाद औली को जल्द ही पुराने स्वरूप में वापस लाया जाएगा. अब तक ऐसा नहीं हो सका है और हाईकोर्ट के सख़्त रुख को देखते हुए तो प्रदूषण बोर्ड ने आज औली के पुराने स्वरूप को लौटाने में हाथ ही खड़े कर दिए.

ये भी देखें: 
Loading...

उत्तराखंड को वेडिंग डेस्टिनेशन बनाना चाहती है सरकार, औली में शादी का विरोध ठीक नहीं: सीएम

औली में 200 करोड़ी शादी: हाईकोर्ट ने GMVN पूछा, गुप्ता परिवार पर ऐसी मेहबानी क्यों? 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नैनीताल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 11, 2019, 6:12 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...