'40 से ज़्यादा विभागों की वजह से स्वास्थ्य मंत्रालय पर ध्यान नहीं दे पा रहे CM, कोरोना संकट में चाहिए पूर्णकालिक मंत्री'
Nainital News in Hindi

'40 से ज़्यादा विभागों की वजह से स्वास्थ्य मंत्रालय पर ध्यान नहीं दे पा रहे CM, कोरोना संकट में चाहिए पूर्णकालिक मंत्री'
2002 में बनी कांग्रेस सरकार में तिलकराज बेहड़ स्वास्थ्य मंत्री रहे हैं.

पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तिलकराज बेहड़ ने कहा अफ़सरों के भरोसे छोड़ दिया गया है स्वास्थ्य महकमा

  • Share this:
हल्द्वानी (नैनीताल). कोरोना के दौर में स्वास्थ्य विभाग सबसे अहम है और क्वारंटीन सेंटर में एक बच्ची की सांप से काटने के बाद मौत, लगातार कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ने के बीच कांग्रेस ने मांग की है कि स्वास्थ्य विभाग को पूर्णकालिक मंत्री मिले. अभी इस विभाग की ज़िम्मेदारी मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के पास है. पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तिलक राज बेहड़ ने कहा कि मुख्यमंत्री को स्वास्थ्य मंत्रालय के लिए एक फुल टाइम मंत्री बनाना चाहिए जो सातों दिन और 24 घंटे स्वास्थ्य विभाग की मॉनीटरिंग कर सके. उन्होंने कहा कि पूरा स्वास्थ्य महकमा अफ़सरों के भरोसे छोड़ दिया गया है. दूसरी ओर बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने दावा किया कि सीएम के अधीन स्वास्थ्य विभाग बेहतर काम कर रहा है.

CM के पास समय नहीं

कोरोना वायरस संक्रमण के दौर में स्वास्थ्य मंत्रालय की भूमिका सबसे अहम है. स्वास्थ्य मंत्रालय में दो विभाग हैं- चिकित्सा शिक्षा और स्वास्थ्य विभाग. इनके दस हजार से ज्यादा कर्मचारी कोरोना की लड़ाई लड़ रहे हैं.



पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तिलकराज बेहड़ की दलील है कि सीएम के पास 40 से ज्यादा अहम विभाग हैं. इनमें पीडब्लूडी, होम, आबकारी से लेकर स्वास्थ्य और अन्य विभाग शामिल हैं. ऐसे में सीएम 24 घंटे इन विभागों की मॉनीटरिंग में व्यस्त रहते हैं.
इस मुद्दे पर बीजेपी संगठन सरकार के साथ खड़ा नज़र आ रहा है. पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने दावा किया है कि सरकार कोरोना संकट में लगातार बेहतर काम कर रही है. भगत ने कहा कि यह समय मंत्रिमंडल विस्तार या किसी अन्य को विभाग देने का नहीं है. जब ज़रूरत होगी तब विस्तार किया जाएगा.

अब तक के स्वास्थ्य मंत्री

उत्तराखंड में मुख्यमंत्री के अलावा आठ मंत्री हैं जिनमें छह कैबिनेट और दो स्वतंत्र प्रभार वाले राज्य मंत्री हैं. पूर्व मंत्री प्रकाश पंत के निधन के एक साल बाद भी उनकी जगह कोई मंत्री नहीं बनाया जा सका है. पहले से ही सरकार में दो मंत्रियों की जगदह खाली पड़ी है. ऐसे में पार्टी के भीतर भी गाहे-बगाहे मंत्रिमंडल विस्तार की चर्चा जोर पकड़ती रही है. अब कोरोना ने विपक्ष को भी उंगली उठाने का मौका दे दिया है.

राज्य बनने के बाद अंतरिम बीजेपी सरकार में अजय भट्ट स्वास्थ्य मंत्री रहे. इसके बाद साल 2002 में हुए चुनाव में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद तिलकराज बेहड़ को स्वास्थ्य मंत्री बनाया गया. 2007 के बाद रमेश पोखरियाल निशंक स्वास्थ्य मंत्री रहे और मुख्यमंत्री बनने के बाद भी यह विभाग उन्होंने अपने पास ही रखा.

उसके बाद आई कांग्रेस सरकार में सुरेंद्र सिंह नेगी ने इस मंत्रालय की जिम्मेदारी देखी. 2017 में चुनाव के बाद बनी बीजेपी सरकार में सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने ने शुरुआत से ही स्वास्थ्य विभाग को अपने पास रखा है.

ये भी देखें:

सतपाल महाराज के घर पर लगा होम क्वारंटीन का स्टिकर, एक और मंत्री मदन कौशिक पर भी संक्रमण का खतरा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading