Home /News /uttarakhand /

Video : नष्ट होने के कगार पहुंची दुर्लभ पाण्डुलिपियों को बचाने के लिए ये काम कर रहे छात्र

Video : नष्ट होने के कगार पहुंची दुर्लभ पाण्डुलिपियों को बचाने के लिए ये काम कर रहे छात्र

राष्ट्रीय पाण्डुलिपि मिशन के तहत चल रही वर्कशॉप में ऋषि-मुनियों के इस ज्ञान को 20 से ज्यादा छात्र वैज्ञानिक तरीके से बचाने में जुटे हैं.

नष्ट होने के कगार पहुंच चुकी कुछ दुर्लभ पाण्डुलिपियों को सरंक्षित करने का काम शुरू हो गया है. नैनीताल की संस्था राष्ट्रीय पाण्डुलिपि मिशन की ओर से इन पाण्डुलिपियों का सरंक्षण किया जा रहा है. पाण्डुलिपि को बचाने के लिए देशभर के 20 से ज्यादा शोध छात्र नैनीताल में जुटे हैं.

16वीं सदी में लिखी गई पाण्डुलिपि आज बदतर हालत में है और दीमक व फंगस से नष्ट होने के कगार पर है. रख-रखाव के अभाव में खराब होती इस पाण्डुलिपि के संवर्धन का काम इन दिनों नैनीताल में चल रहा है. राष्ट्रीय पाण्डुलिपि मिशन के तहत चल रही वर्कशॉप में ऋषि-मुनियों के इस ज्ञान को 20 से ज्यादा छात्र वैज्ञानिक तरीके से बचाने में जुटे हैं.

गौरतलब है कि 16वीं सदी से देश में पाण्डुलिपि के प्रमाण मिलते हैं. उस दौरान पेडों की छाल, भोजपत्र, अग्रु पेड़ की छाल और बड़वा कागज पर लिखा जाता था. जिसमें रहन-सहन, खान-पान, रोग भगाने के उपाचार समेत अन्य तमाम तरह की जानकारियां मिलती हैं.

हाल में ही मिली पाण्डुलिपि से राशियों के मानव जीवन पर असर के प्रमाण मिले हैं. इस बारे में चल रहे शोध में देवप्रयाग की नक्षत्र वेदशाला से लाई गई पाण्डुलिपि में एक पन्ने में गीता, प्रदीप रामायण और विदेश जाने का मंत्र इस दौरान मिले हैं.

राष्ट्रीय पाण्डुलिपि मिशन के सदस्‍य संजय लाल शाह के अनुसार, पूर्वजों का दिया यह ज्ञान रख-रखाव के अभाव में कई जगहों पर खतरे में है. इसमें ऐसी कई बातें लिखी गई हैं जो आम नहीं हो सकी हैं. जरूरी ये होगा की खतरे की कगार पर पहुंची इन सभी पाण्डुलिपियों पर भी शोध हो ताकि वो राज भी लोगों के सामने आ सकें जो ऋषियों और पूर्वजों ने इन पाण्डुलिपियों में लिखा है.

Tags: Nainital news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर