Home /News /uttarakhand /

जगदीशिला डोली अल्मोड़ा से अपने अगले पड़ाव कोटद्वार के लिए रवाना

जगदीशिला डोली अल्मोड़ा से अपने अगले पड़ाव कोटद्वार के लिए रवाना

भगवान विश्वनाथ जगदीशिला डोली अल्मोड़ा से अपने अगले पड़ाव कोटद्वार के लिए रवाना हो गई है. अल्मोड़ा पहुंची डोली ने नंदादेवी मंदिर में रात्रि विश्राम किया. भगवान के दर्शन करने के लिए भारी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे. उन्होंने भगवान से सुख-शांति की कामना की. डोली के संयोजक मंत्री प्रसाद नैथानी शहरफाटक से ही देहरादून के लिए रवाना हो गए थे, जहां वे आज राष्ट्रपति द्वारा बुलाए गए विशेष सत्र में शिरकत करेंगे.

भगवान विश्वनाथ जगदीशिला डोली अल्मोड़ा से अपने अगले पड़ाव कोटद्वार के लिए रवाना हो गई है. अल्मोड़ा पहुंची डोली ने नंदादेवी मंदिर में रात्रि विश्राम किया. भगवान के दर्शन करने के लिए भारी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे. उन्होंने भगवान से सुख-शांति की कामना की. डोली के संयोजक मंत्री प्रसाद नैथानी शहरफाटक से ही देहरादून के लिए रवाना हो गए थे, जहां वे आज राष्ट्रपति द्वारा बुलाए गए विशेष सत्र में शिरकत करेंगे.

भगवान विश्वनाथ जगदीशिला डोली अल्मोड़ा से अपने अगले पड़ाव कोटद्वार के लिए रवाना हो गई है. अल्मोड़ा पहुंची डोली ने नंदादेवी मंदिर में रात्रि विश्राम किया. भगवान के दर्शन करने के लिए भारी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे. उन्होंने भगवान से सुख-शांति की कामना की. डोली के संयोजक मंत्री प्रसाद नैथानी शहरफाटक से ही देहरादून के लिए रवाना हो गए थे, जहां वे आज राष्ट्रपति द्वारा बुलाए गए विशेष सत्र में शिरकत करेंगे.

अधिक पढ़ें ...
    भगवान विश्वनाथ जगदीशिला डोली अल्मोड़ा से अपने अगले पड़ाव कोटद्वार के लिए रवाना हो गई है. अल्मोड़ा पहुंची डोली ने नंदादेवी मंदिर में रात्रि विश्राम किया. भगवान के दर्शन करने के लिए भारी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे. उन्होंने भगवान से सुख-शांति की कामना की. डोली के संयोजक मंत्री प्रसाद नैथानी शहरफाटक से ही देहरादून के लिए रवाना हो गए थे, जहां वे आज राष्ट्रपति द्वारा बुलाए गए विशेष सत्र में शिरकत करेंगे.

    कल कोटद्वार में मंत्री दुबारा से यात्रा में शिरकत करेंगे. यह डोली 5000 किलोमीटर की यात्रा करेगी और 2200 देवालयों में जाएगी, लेकिन मंत्री के लगातार सिर्फ डोली पर ही ध्यान रखने के कई लोग प्रश्न उठा रहे हैं कि कैबिनेट मंत्री मंत्री प्रसाद नैथानी डोली को घुमाते रहे तो उनके मंत्रालयों का क्या होगा. वैसे भी जहां डोली जा रही हैं वहां उनके विभाग से संबंधित अधिकारी उनकी आवाभगत में लग जाते हैं.

    गर्मी का सीजन है. लोगों को कई जगहों पर पेयजल की किल्लत हो रही तो कहीं स्कूलों में किताबें नहीं पहुंची हैं. इसकी तरफ तो मंत्री का ध्यान है ही नहीं जा रहा है.

    आपको बता दें कि हरिद्वार के हर की पैड़ी से शुरू हुई रथ यात्रा जहां प्रदेश भर के 13 जनपदों में 2200 शिवालयों की दर्शन करेगी तो वहीं रथ यात्रा 8500 किलोमीटर का सफर तय कर गंगा दशहरे की पूर्व संध्या पर सोमपर्वत पर समाप्त होगी. डोली रथ यात्रा की अगुवाई कर रहे मंत्री प्रसाद नैथानी का कहना है कि यात्रा का मुख्य उद्देश्य राज्य की सुख-शान्ति, निरोग व समृद्धता है.

    आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर