महीनों से एक साइन के लिए चक्कर काट रही थी बुजुर्ग महिला... गुस्साई अधिकारी ने फ़ाइल ही फाड़ दी
Pauri-Garhwal News in Hindi

महीनों से एक साइन के लिए चक्कर काट रही थी बुजुर्ग महिला... गुस्साई अधिकारी ने फ़ाइल ही फाड़ दी
चिथड़े-चिथड़े हो गई अपनी फ़ाइल को संभालती महिला.

शिकायत का संज्ञान लेते हुए कोटद्वार के एसडीएम ने तहसीलदार को मामले की जांच के आदेश दिए हैं.

  • Share this:
कोटद्वार. उत्तराखंड में अफ़सरों की मनमानी और खुद को राजा समझने के किस्सों में एक जुड़ गया है. यहां अफ़सर आम आदमी तो क्या विधायकों, मंत्रियों तक के फ़ोन नहीं उठाते और तो और सीएम के आदेशों की डीएम अनदेखी कर देते हैं. ताज़ा किस्सा कोटद्वार का है जहां एक एप्लीकेशन पर साइन करवाने पहुंची बुजुर्ग महिला की फ़ाइल महिला अफ़सर ने गुस्से में आकर फाड़ दी. यह गरीब महिला पिछले कई महीने से एक साइन करवाने के लिए सरकारी ऑफ़िस के चक्कर काट रही थी और उन्हें इसका सिला यह मिला कि साइन करवाने के लिए पेपर ही नहीं बचे.

साइन करने की गुज़ारिश पर भड़की

कोटद्वार के बीईएल रोड इलाके की रहने वाली बुजुर्ग महिला पीड़ित महिला का कहना है कि इस साल के फ़रवरी महीने में उनकी बेटी की शादी हुई थी. वह आर्थिक रूप से सक्षम नहीं हैं और रिश्तेदारों के अलावा दूसरे लोगों से कर्ज़ मांगकर उन्होंने अपनी बेटी की शादी कराई थी. कर्ज़ का बोझ कम करने के लिए उन्होंने श्रम विभाग से आर्थिक सहायता के लिए एप्लिकेशन डाली थी. महिला का कहना है कि श्रम विभाग से उनकी बेटी की शादी के लिए 51,000 रुपये की आर्थिक सहायता मिलनी थी.



इस सहायता को पाने के लिए यह बुजुर्ग महिला लंबे समय से सह नगर आयुक्त के कार्यालय के चक्कर काट रही थीं. उन्हें सह नगर आयुक्त अंकिता जोशी के गुस्से का शिकार सिर्फ़ इसलिए होना पड़ा क्योंकि उन्होंने इस अफ़सर से एक पेपर पर दोबारा साइन करने की फ़रियाद की थी.
बुजुर्ग महिला की बात महिला अधिकारी को इतनी ज़्यादा चुभ गई कि उन्होंने तमतमाते हुए फरियादी महिला की पूरी फ़ाइल ही फाड़ डाली और सुरक्षाकर्मियों से महिला को बाहर निकालने को कह दिया. पीड़ित महिला का आरोप है कि फ़ाइल में कई अहम दस्तावेज़ों के साथ ही स्टांप पेपर भी थे.

जांच के आदेश 

कोटद्वार एसडीएम के पास रोते हुए पहुंची पीड़ित महिला ने अपनी आपबीती एसडीएम को बताई और महिला अधिकारी के खिलाफ शिकायत की.

उनकी शिकायत का संज्ञान लेते हुए एसडीएम योगेश मेहरा ने तहसीलदार को पूरे मामले की जांच कर रिपोर्ट तैयार करने के आदेश दिए हैं.

यह भी देखें: 

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज