• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttarakhand
  • »
  • चर्चा में है कूड़े के ढेर में फेंके गए खंडूड़ी नाम के भाजपा के झंडे

चर्चा में है कूड़े के ढेर में फेंके गए खंडूड़ी नाम के भाजपा के झंडे

पौड़ी गढ़वाल - शांति बाजार के निकट कूड़े के ढेर में फेंके मिले  खंडूड़ी नाम के बीजेपी के झंडे

पौड़ी गढ़वाल - शांति बाजार के निकट कूड़े के ढेर में फेंके मिले खंडूड़ी नाम के बीजेपी के झंडे

भुवनचन्द्र खंडूड़ी के नाम लिखे भाजपा के झंडे से भी अब भाजपा इतना परहेज करने लगी है कि उन्हें कूड़े के ढेर में फेंकना ही उसे ठीक लग रहा है.

  • Share this:
पांच बार के सांसद, दो बार के मुख्यमंत्री और एक बार केन्द्रीय मंत्री रह चुके भुवनचन्द्र खंडू़ड़ी अब भाजपा के लिए जरूरी नहीं रह गए हैं. यही कारण है कि भुवनचन्द्र खंडूड़ी के नाम लिखे भाजपा के झंडे से भी अब भाजपा इतना परहेज करने लगी है कि उन्हें कूड़े के ढेर में फेंकना ही उसे ठीक लग रहा है. दरअसल देवप्रयाग में पूर्व मुख्यमंत्री भुवनचन्द्र खंडूड़ी के नाम से छपे झंडों को कूड़े के ढेर में डालकर लगता है कि भाजपा उनसे अपना पल्ला छुड़ाना चाहती है. बता दें कि शांति बाजार के निकट कूड़े के ढेर में फेंके मिले हैं  खंडूड़ी नाम के भाजपा के झंडे. यह शहर भर में चर्चा का विषय बना हुआ है.

खास बात यह है कि ऐन लोकसभा चुनाव के वक्त बीसी खंडूड़ी नाम से छपे पार्टी झंडों के कूड़े के ढेर में मिलना भाजपा में खंडूड़ी के समर्थकों को बहुत बुरा लग रहा है. इतना ही बुरा उस कांग्रेस को भी लग रहा जिसके चुनाव निशान पर बीसी खंडूड़ी के पुत्र गढ़वाल लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रहे हैं. कांग्रेस जिला उपाध्यक्ष नंदन टोडरिया इसे जहां भाजपा की यूज एंड थ्रो की सोच वाली पॉलिसी बताते हैं, वहीं भाजपा नगर अध्यक्ष शशि ध्यानी का कहना है कि शहर के किसी गोदाम में यह पार्टी की पुरानी प्रचार सामग्री थी और साफ सफाई के चलते गोदाम मालिक ने इसे बाहर फेंका होगा.

बहरहाल बात कुछ भी हो लेकिन वर्ष 2012 में भुवनचन्द्र खंडूड़ी के नाम पर खंडूड़ी है जरूरी नारे के साथ विधानसभा चुनाव लड़कर बड़ी संख्या में सीटें जीतने वाली और लम्बे समय तक खंडूड़ी को अपना सब कुछ मानने वाली भाजपा के लिए ये स्थिति दिक्कतें पैदा करने वाली हैं. इसका वो अगर ध्यान रखती तो ऐसी शर्मनाक स्थिति पैदा नहीं होती.

ये भी पढ़ें - मनीष खंडूरी की अपनी कोई राजनीतिक पहचान नहीं - हरक सिंह रावत

ये भी पढ़ें - लोकसभा चुनाव 2019 : क्या राहुल की रैली में इस बार सीनियर खंडूरी भी आएंगे नज़र...?

Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज